इजरायल का दावा! बन गयी कोरोना वैक्‍सीन जल्द ही खत्म होगा कोरोना वायरस
TRENDING
  • 10:28 PM » प्रेगनेंसी के दौरान पीठ दर्द की समस्या से छुटकारा पाने के उपाय।
  • 11:48 PM » लौंग की चाय पीने के फायदे (Laung ki chai ke fayde) – Benefits of clove tea in Hindi.
  • 6:11 PM » पालक फेस पैक बनाने की विधि – Palak face pack banane ki vidhi.
  • 7:08 PM » बालों में कंडीशनर लगाने का सही तरीका (Conditioner lagane ka sahi tarika) – How To Use Conditioner In Hindi.
  • 10:07 PM » महात्मा गांधी पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on mahatma gandhi in hindi.

कोरोना महामारी के तेजी से फ़ैल रहे संक्रमण के बीच हर कोई देश इससे निपटने के लिए अनेक प्रकार की वैक्‍सीन बनाने पर रिसर्च कर रहें हैं। अभी कुछ दिन पहले अमेरिका ने एंटी वायरल दवा एंटी वायरल दवा रेमडेसिवीर (Remdesivir) को कोरोना महामारी संक्रमण रोकने में कारगर बताया और राष्ट्रपति ट्रम्प ने रेमडेसिवीर दवा को कोरोना संक्रमित लोगों की इलाज हेतु आपातकालीन मंजूरी भी प्रदान करी। अमेरिका के बाद अब इजरायल के रक्षा मंत्री नैफ्टली बेन्‍नेट (naftali bennett) ने दावा किया कि उनके देश ने कोरोना वायरस के लिए वैक्‍सीन बना ली है। उन्होंने बताया कि इजरायल के डिफेंस बायोलॉजिकल इंस्‍टीट्यूट ने COVID-19 के एंटीबॉडी बनाने में बड़ी सफलता हासिल की है। रक्षा मंत्री बेन्‍नेट ने बताया कि कोरोना वायरस वैक्‍सीन के व‍िकास का चरण अ‍ब पूरा हो गया है और शोधकर्ता इसके पेटेंट और व्‍यापक पैमाने पर उत्‍पादन के लिए तैयारी कर रहे हैं।

कोरोना वायरस वैक्‍सीन

courtesy google

इजरायल के रक्षा मंत्री नैफ्टली बेन्‍नेट ने कहा कि देश के पीएम बेंजामिन नेतन्‍याहू के कार्यालय के अंतर्गत चलने वाले बेहद गोपनीय इजरायल इंस्‍टीट्यूट फॉर बायोलॉजिकल रीसर्च में इस वैक्‍सीन को तैयार किया गया है। रक्षा मंत्री बेन्‍नेट के मुताबिक कोरोना से लड़ने में कारगर यह एंटीबॉडी मोनोक्‍लोनल तरीके से वायरस पर हमला करता है और इसकी सबसे बड़ी खासियत है कि जब किसी बीमार व्यक्ति के शरीर के शरीर में इसे प्रेवश कराया जाता है तो यह शरीर के अंदर ही वायरस को खत्म करने की क्षमता रखता है।
बता दें कि इजरायल में अब तक 16 हजार से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं और वायरस के चलते अब तक 240 लोगों को अपनी जान से हाथ गवाना पड़ा है।

इजरायल के रक्षा मंत्री नैफ्टली बेन्‍नेट के मुताबिक वैक्‍सीन के विकास का चरण पूरा हो चुका है और अब डिफेंस इंस्‍टीट्यूट द्वारा वैक्‍सीन को पेटेंट कराने की प्रक्रिया चल रही है। उन्होने बताया कि अगले चरण में शोधकर्ता अंतरराष्‍ट्रीय कंपनियों से व्‍यवसायिक स्‍तर पर उत्‍पादन के लिए संपर्क करेंगे। बेन्‍नेट ने कहा, इस शानदार सफलता पर मुझे इंस्‍टीट्यूट के स्‍टाफ पर गर्व है। हालाँकि कोरोना के वैक्‍सीन बना लेने का दावा करने वाले इजरायल ने अभी तक इस बारे में कोई जानकारी नहीं उपलब्ध करवाई कि इस वैक्‍सीन का इंसानों पर ट्रायल किया गया है या नहीं।
बता दें कि ऐसा पहली बार नही कि जब इजरायल ने कोरोना वैक्‍सीन बना लेने का दावा किया हो इससे पहले भी इजरायल के तेल अवीव (Tel Aviv) यूनिवर्सिटी के एक वैज्ञानिक ने COVID-19 के इलाज के लिए वैक्सीन डिजाइन का पेटेंट करवाया था, जिसके बाद वैक्सीन की चर्चा शुरू हो गई थी। तेल अवीव यूनिवर्सिटी ने एक बयान जारी कर बताया था कि यह पेटेंट ‘यूनाटेड स्टेट्स पेटेंट एडं ट्रेडमार्क ऑफिस’ द्वारा प्रदान किया गया है।

कोरोना वायरस की अधिक जानकारी के लिए पढ़े –

क्या आपके घर में आने वाले अखबार से फ़ैल सकता है (COVID-19) कोरोना वायरस, पढ़े रिपोर्ट।

कोरोना वायरस से बचाव हेतु घर की साफ सफाई के लिए अपनाये ये टिप्स।

कोरोना वायरस के कारण चल रहे लॉकडाउन के दिनों में घर में समय बिताने के टिप्स।

कहीं आप भी कोरोना वायरस के कारण फीयर साइकोसिस के शिकार तो नहीं हो रहे?

क्या मच्छर के काटने से कोरोना वायरस (COVID-19) हो सकता है?

कोरोना वायरस ट्रैकिंग ऐप आरोग्य सेतु कैसे काम करता है, कहाँ से करें डाऊनलोड।

कोरोना वायरस: लॉकडाउन के दौरान हेल्दी लाइफस्टाइल जीने के टिप्स।

कोरोना वायरस: होममेड जूस जो कर सकते हैं आपका इम्यून सिस्टम बूस्ट।

शोध कोरोना वायरस से होने वाली मौत: किन लोगों को है ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत।

जानिए MoHFW की गाइडलाइन के अनुसार होममेड फेस मास्क को रियूज करने के तरीके।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :-                                                           Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT