पहाड़ों में उगने वाले बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ पौधों के 8 जबरदस्त स्वास्थ्य लाभ।
TRENDING
  • 11:33 PM » गर्भ में पल रहा बेबी लड़का है या लड़की (Garbh me ladka hone ke lakshan) – Baby boy symptoms in hindi.
  • 11:29 PM » बासी रोटी खाने के फायदे (Basi roti khane ke fayde) – Basi roti benefits in hindi.
  • 11:27 PM » जिद्दी खांसी दूर करने के घरेलू नुस्खे (Ziddi khansi ka ilaj) – Home remedies for cough in hindi.
  • 10:36 PM » निमोनिया में क्या खाना चाहिए (Nimoniya me kya khana chahiye) – What to eat in pneumonia in hindi.
  • 7:13 PM » बालों को लम्बा करने के तरीके (Balo ko lamba karne ka tarika) – Hair Growth Tips in Hindi.

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) हिमालयन रीजन के पर्वतयी इलाकों में उगने वाला एक जंगली पौंधा है। इसका बॉटनिकल नेम अर्टिका डाइओका (urtica dioica) है। इसके पत्तों पर सफेद रंग के डंकनुमा बाल होते हैं। यदि आपने इसे गलती से छू लिया तो ये डंक आपके त्वचा में प्रवेश कर जाते हैं और प्रभावित जगह पर तेज चुभन का अहसास होने के साथ खुजली होने लगती है और त्वचा का रंग लाल पड़ जाता है। अत्यधिक मात्रा में डंक लगने पर शरीर के उस भाग पर सूजन भी आ जाती है। इस लिए इस पहाड़ी (bichu ghas) बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ के पौंधे को भूल कर भी नग्न हाथों से छूने का प्रयास नहीं करें। इसके अलावा यदि आप पहाड़ों में एडवेंचर करने के शौकीन हैं तो चलते समय इस बात का ध्यान रखें कि गलती से भी शरीर का कोई नग्न पार्ट बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu ghas) के पौंधे के सम्पर्क में नहीं आये। अन्यथा आपका एडवेंचर किसी दर्दनाक सफर से कम नहीं रहेगा।

हिमालय रीजन के पर्वतीय क्षेत्रों में पाया जाने वाला बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) का पौंधा अपने अनेक औषधीय गुणों के चलते भी काफी प्रसिद्ध है। स्वास्थ्य के लिहाज से इसके अनेक फायदे होने के कारण आज कल कई लोग बड़ी तादात में इस जंगली घास की कमर्शियल पर्पज पर खेती भी करने लगे हैं। आज के इस आर्टिकल में हम चर्चा करंगे हिमालय रीजन के पर्वतीय क्षेत्रों में पाए जाने वाली बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu ghas) के पौंधे से होने वाले सभी स्वास्थ्य संबंधी फायदों के बारे में।

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ

courtesy google

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu ghas) के फायदे – Health benefits of nettle leaf in hindi 

हार्ट और लिवर के लिए – Nettle Leaf for Heart and liver in hindi 

एक हेल्दी हार्ट और लिवर के लिए बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) बेहद फायदेमंद साबित होती है। इसमें मौजूद इथेनॉलिक एक्सट्रैक्ट (Ethanolic extract) ह्रदय की धमनियों से जुड़ी समस्या एथेरोस्क्लोरोटिक को दूर करने का कार्य करती है। एक अच्छे स्वस्थ्य हृदय के लिए आप इससे बनी चाय का नित्य सेवन अवश्य करें। इसमें मौजूद हेपटोप्रोटेक्टिव (hepatoprotective) लिवर से जुडी समस्याओं के निदान में फायदेमंद साबित होता है।

बुखार और एलर्जी की समस्या में – Nettle Leaf for Fever and allergy in hindi

अक्सर बदलते मौसम के कारण बुखार, एलर्जी और सर्दी जुकाम की समस्या हमें आ घेरती हैं। ऐसे में बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) का प्रयोग करना इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने का बेहद कारगर तरीका साबित होता है। बिच्छू घास में मौजूद एंटी-अस्थमैटिक और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण दमा, एलर्जी, सर्दी जुकाम और बुखार जैसी सस्याओं से निजात दिलाता है।

डिटॉक्सीफाई करे – Nettle Leaf for Detoxification in hindi

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) में ऐसे प्राकृतिक गुण मौजूद होते हैं जो कि शरीर को डिटॉक्सीफाई करने का काम करते हैं। यह हमारे शरीर से जहरीले पदार्थों को बाहर निकालने का कार्य करते हैं। यह हमारे लिम्फेटिक सिस्टम (lymphatic system) को दुरुस्त करता है जिसके परिणाम स्वरूप शरीर में मौजूद विषाक्त पदार्थ मूत्र के द्वारा शरीर से बहार निकल जाते हैं।

सिर्फ मुँह का स्वाद बढ़ाने में नहीं, स्वास्थ्य के लिहाज से भी गुणकारी है पान के पत्ते।

मासिक धर्म और पीसीओएस से जुडी समस्या – Nettle Leaf for Menstruation and PCOS in hindi

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu buti) का प्रयोग मासिक धर्म और पीसीओएस से जुडी समस्याओं में भी किया जाता है। महिलाओं को मासिक धर्म के दौरान होने वाली समस्याओं जैसे कि अनियमित पीरियड्स, अतरिक्त रक्त बहाव, प्रीमेंस्ट्रुअल के लक्षण, ऐंठन और सूजन आदि को कॉन्ट्रोल करने का काम करता है। इसके अलावा आधुनिक लाइफस्टइल के इस दौर में महिलाओं में पीसीओएस (Polycystic Ovary Syndrome) की सम्याएं देखने को मिल रही हैं। ऐसे में बिच्छू घास का प्रयोग फादेमंद रहता है इसके एंटी-एंड्रोजन (Anti-androgen) गुण पीसीओएस की समस्या को दूर करने का काम करते हैं।

घावों को भरने का काम करे – Nettle Leaf for wounds in hindi

प्राचीन काल में चोट लग जाने पर घाव भरने के लिए बिच्छू घास बूटी (bichu buti) का प्रयोग किया जाता था। इसमें मौजूद हाइड्रोअल्कोहलिक एक्सट्रैक्ट (hydroalcoholic extract) घावों को भरने का कार्य करते हैं। इसेक आलावा इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी व एंटी-बैक्टीरियल गुण भी पाए जाते हैं जो घाव को तेजी से भरने का कार्य करते हैं।

पोषक तत्वों का खजाना – Nutritional treasure

बिच्छू घास बूटी (bichu ghas) को अगर पोषक तत्वों का खजाना कहा जाये तो ये कहना कतई गलत नहीं होगा। इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, मैंगनीज, सेलेनियम, थायमिन, राइबोफ्लाविन, नियासिन, विटामिन बी -6, बीटाइन, विटामिन ए, कैरोटीन, विटामिन के(k) जैसे अनेक तत्व मौजूद होते हैं।

वजन कम करने में कारगर है स्वास्थ्यवर्ध्क जापानी माचा चाय, क्या आपने पी ?

ऑस्टियोपोरोसिस के लिए – Nettle Leaf for For osteoporosis in hindi

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu ghas) में मौजूद बोरॉन नामक तत्व (हड्डियों को ठीक रखने वाला कैल्शियम) मौजूद होता है। इससे हड्डियों के स्वास्थ्य को मॉनिटर करने में मदद करती है और यह ऑस्टियोपोरोसिस के लक्षणों को कम करने का कार्य करती है।

बालों के लिए – Nettle Leaf for For hairs in hindi

बिच्छू घास बूटी नेटल लीफ (bichu ghas) आपके सुंदर, घने काले बालों का राज बन सकती है। यह बालों को मजबूती प्रदान करने के साथ बालों को झड़ने से रोकने का काम करती है। बालों के लिए आप इसकी चाय, केप्सूल और तेल का प्रयोग कर सकते हैं।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी रोचक जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :-                                                           

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT

%d bloggers like this: