भारत में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन को मिली मंजूरी।
TRENDING
  • 5:51 PM » Aloe vera gel kaise lagaya jata hai : एलोवेरा जेल लगाने का तरीका।
  • 11:09 PM » Ganesh ji ki kahani : गणेश जी की कहानी (Ganesha story in hindi).
  • 7:19 PM » Toothpaste se pregnancy test kaise kare : टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 9:45 PM » Sabun se pregnancy test kaise kare : साबुन से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 5:49 PM » Chini se pregnancy test kaise kare : चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।

देश में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के बीच एक और बड़ी राहत वाली खबर सामने आ रही है। भारत सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए कम कीमत वाले सस्ते स्टेरॉयड डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) को उपचार के लिए मंजूरी दे दी है। स्वाथ्य मंत्रायल ने स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन का प्रयोग केवल मॉडरेट और गंभीर लक्षणों वाले कोरोना के मरीजों पर मिथाइलप्रेड्निसोलोन (Methylprednisolone) के विकल्‍प के तौर पर करने को मंजूरी प्रदान करी है। इससे पहले ब्रिटेन में हुए एक क्लिनिकल ट्रायल में स्टेरॉयड ड्रग डेक्सामेथासोन को ‘लाइफ़ सेविंग’ की संज्ञा दी गयी थी, जिसके बाद WHO ने इसकी सफलता पर खुशी जाहिर करते हुए ‘लाइफ़ सेविंग’ ड्रग डेक्सामेथासोन के उत्पादन में तेजी लाने को कहा था। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए क्‍लीनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल में संशोधन किया है।

डेक्सामेथासोन एक प्रकार का स्टेरॉयड है जो रोगप्रतिरोध तथा सूजन से संबंधित समस्याओं के इलाज में प्रयोग किया जाता है। इसका प्रयोग वर्ष 1960 से हो रहा है। कई मामलों में इसका प्रयोग कैंसर जैसी घातक बीमारी के इलाज में भी किया जाता है। इस दवा को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आवश्‍यक दवाओं की सूची में वर्ष 1977 से सूचीबद्ध किया है। इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह सस्ती होने के साथ-साथ आसानी से मिल जाने वाली दवाओं में से एक है।

आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई रिसर्च
ब्रिटेन की आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में हुई रिसर्च में 2,104 कोरोना संक्रमित मरीजों पर इस दवा का रिसर्च किया गया। जिसकी तुलना 4,321 दूसरे ऐसे कोरोना संक्रमितों मरीजों से करी, जिनका सामान्य रूप से इलाज किया जा रहा था। इस रिसर्च के दौरान शोधकर्ताओं ने पाया कि डेक्सामेथासोन (Dexamethasone) दवा के प्रयोग से ऐसे कोरोना संक्रमित मरीज जिनकी हालत गंभीर होने के कारण उन्हें आक्सीजन सपोर्ट और वेंटीलेटर पर रखा गया था, उनकी मृत्यु दर में 35 फीसदी तक की कमी आयी। शोध में यह बात समाने आयी थी कि इस दवा के इस्तेमाल से मरीजों पर मौत का खतरा