रिसर्च: कोरोना वैश्विक महामारी के दौरान बच्चे हो रहे हैं स्ट्रेस के शिकार पढ़े रिपोर्ट।
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

कोरोना वायरस के कारण देश मे लॉकडाउन चल रहा है इसलिए परिवार का हर सदस्य घर पर मौजूद है। घर में रहने की वजह से ये स्वाभाविक है की हर किसी के दिमाग में कोरोना वायरस को लेकर कोई न कोई सवाल जरूर आते होंगे। फिर चाहे वो किसी भी उम्र का क्यों न हो बच्चे से लेकर बुड्ढे तक इस महामारी से काफी डरे हुए है। लॉकडाउन के दौरान आजकल सभी स्कूल कॉलेज बंद है जिस कारण बच्चे भी अपना पूरा समय घर पर ही रह रहे हैं, जिससे उनके अंदर कही न कही इस महामारी को ले कर एक डर सा बैठ गया है । भले ही बच्चे अपनी भावनाओं को व्यक्त नहीं पाते है पर इस बात में कोई दोराय नहीं कि बच्चे भी कोरोना महामारी के कारण स्ट्रेस महशूष कर रहे हैं। क्या आप के बच्चे भी कोरोना महामारी के कारण स्ट्रेस के शिकार तो नहीं हो रहे, अगर आपको इसका जवाब नही पता तो आज हम आपको बताने जा रहे है की कैसे आप पहचाने की उनमे ये लक्षण है या नहीं।

कोरोना महामारी बच्चे स्ट्रेस

courtesy google

बच्चो में स्ट्रेस के लक्षण –

चिड़चिड़ापन और व्यवहार में बदलाव –

डॉक्टर्स के मुताबिक चिड़चिड़ापन तनाव का सबसे बड़ा लक्षण है इस दौरान बच्चे के व्यवहार में अंतर और स्वभाव में बदलाव आजाता है स्ट्रेस से होने वाली घबराहट के कारण शरीर में हार्मोन्स का केमिकल इंबैलेंस हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप बच्चे के व्यवहार में बदलाव या चिड़चिड़ापन आना बहुत ही स्वाभिक है। डॉक्टर्स के मुताबिक ऐसी परिस्थितियों में बच्चे के मन से कोरोना वैश्विक महामारी का खौफ निकलने के लिए उनको सहज तरीके से कोरोना के बारे में समझाएं, उनसे बातें करे और उनको समझाएं की हम और हमारा परिवार बिलकुल सुरक्षित है आप बच्चे से कोरोना वैश्विक महामारी से संबंधित कोई भी बातें ना करे और साथ ही साथ उनका मनोबल बढ़ाए।

पर्याप्त नींद न आना या नींद का बार बार खुल जाना –

अगर आपका बच्चा रात में बार बार उठ रहा हो या फिर देर रात तक उसको नींद नहीं आरही हो तो यकीन मानिये उसमे तनाव हो सकता है। ऐसे में डॉक्टर्स सलाह देते है की अपने बच्ची को रचनात्मक कार्य में लगाए उनको छत में घुमाने ले जाए, उनको घर के गार्डन में खिलाएं। इससे अलावा आप भी अपने बच्चे के साथ खेलें, टीवी पर उनको ज्ञानवर्धक च