डॉ हर्षवर्धन ने कहा चीन द्वारा भेजी गयी खराब रैपिड टेस्ट किट वापस भेजी जाएँगी चीन।
TRENDING
  • 10:07 PM » महात्मा गांधी पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on mahatma gandhi in hindi.
  • 8:00 PM » स्वामी विवेकानंद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on vivekananda in hindi.
  • 9:15 PM » किसान पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on farmer in hindi.
  • 11:25 PM » डेंड्रफ क्या है? जानें डैंड्रफ होने के कारण – Dandruff hone ke karan.
  • 9:30 PM » मेरे देश पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on my country in hindi.

एक तरफ सम्पूर्ण विश्व जहाँ कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एक दूसरे का पूरा सहयोग करने की कोशिश कर रहें हैं, वहीं दूसरी तरफ चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा। कोरोना से लड़ने और जाँच में तेजी लाने के लिए भारत ने चीन से  रैपिड टेस्ट किट खरीदे थे, जिनके बारे में अब यह बात सामने निकल कर आ रही है कि चीनी कोरोना रैपिड टेस्ट किट सही रिपोर्ट देने में सक्षम नहीं हैं। जिस कारण जाँच कि रिपोर्ट गलत आने की सम्भावनएं बढ़ रही हैं। भारत पहला ऐसा देश नहीं हैं जहाँ चीनी कोरोना रैपिड टेस्ट किट की रिपोर्ट पर सवाल उठाये गए हों। इससे पहले भी यूरोप के कई देश चीन द्वारा भेजी गयी रैपिड टेस्ट किट खराब गुणवत्ता के चलते वापस कर चुके हैं। हाल ही में देश के स्वास्थ्यमंत्री डाक्टर हर्षवर्धन के बताया की गुणवत्ता पर खरी न उतरने के कारण भारत ने चीनी कोरोना रैपिड टेस्ट किट को चीन को वापस लौटने का निर्णय लिया है।

चीन रैपिड टेस्ट किट

courtesy google

कोरोना वायरस से लड़ने और तेजी से खत्म करने के लिए हर देश के लिए यह बेहद जरुरी है कि वह अपने देश में वायरस से निपटने के लिए तेजी से रैपिड टेस्ट का सहारा ले। इसी को मद्देनजर रखते हुए हमारे देश भारत ने भी चाइना से समते कई अन्य देशों से रैपिड कोरोना टेस्ट किट खरीदी। भारत में इन किट्स के द्वारा हुई जाँच की रिपोर्ट गलत आने के बाद इनकी गुणवत्ता पर सवाल उठने लगे। मामला संज्ञान में आने के बाद स्वास्थ्य मंत्री डाक्टर हर्षवर्धन ने राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा करी। जिसमे यह निर्णय लिया गया ऐसी सभी रैपिड टेस्ट किट जो गुणवत्ता पर खरी नहीं उत्तर रही, उन्हें उनके देश वापस भेजा जायेगा।

आपको बता दें कि कई राज्यों द्वारा रैपिड टेस्ट किट की गुणवत्ता के बारे में शिकायत मिलने के बाद भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद (ICMR) ने  रैपिड जाँच टेस्ट किट पर अस्थायी रूप से रोक लगाने का फैसला लिया था। इस दौरान ICMR ने 8 शीर्ष चिकित्सयी सस्थाओं द्वारा फिल्ड जाँच को मंजूरी दी थी। जाँच में जो बात निकलकर आयी वो वाकई हैरान कर देने वाली थी। जाँच की रिपोर्ट के मुताबिक चीन से खरीदी रैपिड टेस्ट किट और राज्यों की रिपोर्ट में बड़ा अंतर् साफ दिख रहा था। भारत से पहले भी चीन कई यूरोपियन देशों को अपनी खराब टेस्ट किट भेज चूका है। जिन्हे वहाँ की गवर्मेंट द्वारा रिजेक्ट कर दिया गया और चीन को वापस लौटा दिया गया।

गौरतलब है कि देश में कोरोना से निपटने के लिए के राज्य इन रैपिड टेस्ट किट की मदद ले रहे थे, जिसे अब सभी राज्यों द्वारा रोक दिया गया है। बता दें कि भारत में रैपिड टेस्ट किट का प्रयोग करने वाले राज्यों में राजस्थान, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, दिल्ली, कर्नाटक, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु आदि अन्य राज्य शामिल हैं।

कोरोना वायरस की अधिक जानकारी के लिए पढ़े –

लॉकडाउन गाइडलाइन 2.0: 20 अप्रैल के बाद ऑफिस जाने वाले लोग इन बातों पर ध्यान दें।

वायरल वीडियो: थाईलैंड के चिड़ियाघर में चिंपैंजी से करवाया सैनिटाइजेशन, नाराज हुआ पेटा।

WHO से नाराज अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप ने रोकी WHO को दी जाने वाली फंडिंग।

लॉकडाउन में पिज्जा खाना पड़ा भारी, पिज्जा डिलीवरी बॉय निकला कोरोना पॉजिटिव।

लॉकडाउन 2.0 गाइडलाइन: जानिए किस में मिलेगी छूट और किस में जारी रहेगी सख्ती।

हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन: राष्ट्रपति ट्रंप के बाद ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सोनारो और इस्राइल के प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने की प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ।

HCQ पर अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ, कहा संग जीतेंगे जंग।

कोरोना वायरस ट्रैकिंग ऐप आरोग्य सेतु कैसे काम करता है, कहाँ से करें डाऊनलोड।

जानिए MoHFW की गाइडलाइन के अनुसार होममेड फेस मास्क को रियूज करने के तरीके।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :-                                                           Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT