8 स्टेप्स में जानिए एसिडिटी का तुरंत इलाज : Acidity Ka Gharelu Upchar
TRENDING
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.
  • 9:09 PM » भगत सिंह पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on bhagat singh in hindi.

Acidity ka gharelu upchar… एसिडिटी की समस्या से आज कल लगभग हर कोई परेशान रहता है। यदि एसिडिटी का तुरंत इलाज न किया जाए तो यह आगे चलकर कब्ज, सीने में जलन, खट्टी डकार, मतली और पेट फूलना जैसी समस्याओं का कारण बन सकती है। भले ही सुनने में एसिडिटी की समस्या बेहद सामान्य और छोटी क्यों न लगे लेकिन समय रहते इससे छुटकारा पाना बहुत जरूरी होता है, नहीं तो सामान्य सी लगने वाली एसिडिटी की समस्या आपको बहुत परेशान कर सकती है। इसलिए समय रहते इससे छुटकारा पाने के उपायों को जरूर आजमाएं। आज के इस आर्टिकल में हम चर्चा करेंगे एसिडिटी का तुरंत इलाज करने के लिए अपनाये जाने वाले कुछ घरेलू नुस्खों (Acidity ka gharelu upchar) के ऊपर। लेकिन उससे पहले जान लेते हैं एसिडिटी क्यों होती है और इसके लक्षण क्या हैं?

एसिडिटी क्या है – What is acidity in hindi.

हमारे पेट में मौजूद गेस्ट्रिक ग्लेंड में जब एसिड का उत्पादन अधिक होने लगता है। तब व्यक्ति को एसिडिटी की समस्या का सामना करना पड़ता है। आमतौर पर हमारा पेट हाइड्रोक्लोरिक एसिड पेपसीन का स्राव करता है जो भोजन को पचाने का कार्य करता है। लेकिन जब हम अधिक तला-भुना और मसालेदार भोजन करते हैं तब यह पित्त दोष बढ़ाकर अम्लता उत्पन्न करता है और आपको सीने में जलन, मतली, खट्टी डकार, पेट में जलन और एसिडिटी जैसी समस्या का सामना करना पड़ता है।

एसिडिटी का तुरंत इलाज
courtesy google

जानिए एसिडिटी का तुरंत इलाज – Acidity ka gharelu upchar.

एसिडिटी का तुरंत इलाज है सौंफ –

यदि आपने जरूरत से अधिक खाना खा लिया है तो खाने के तुरंत बाद थोड़ी सी सौंफ का सेवन जरूर करें। यह भोजन को पचाने में मदद करता है और एसिडिटी की समस्या को दूर करता है।

एसिडिटी का तुरंत इलाज है ठंडा दूध –

जी हाँ बिलकुल सही सुना आपने अक्सर गैस की समस्या होने पर हम दूध का सेवन करने से बचते हैं। लेकिन आपको बता दें कि यह एसिडिटी की समस्या को दूर करने का काम भी करता है। हालाँकि इसके लिए आपको गर्म नहीं ठंडे दूध को मिश्री के साथ पीना होगा।

दूध पीने के फायदे (Doodh Peene Ke Fayde) – Benefits Of Milk In Hindi.

एसिडिटी का तुरंत इलाज है गुड़ का सेवन –

खाना खाने के तुरंत बाद गुड़ का सेवन पाचन क्रिया को बूस्ट करने का काम करता है। यह डाइजेशन को बढ़ावा देता है और पेट की अम्लता को कम करता है।

Acidity ka gharelu upchar hai : केला

केले का सेवन भी गैस की समस्या को दूर करने में किया जा सकता है। यह एक ऐसा फल है जिसमें नेचुरल एंटासिड मौजूद होते हैं। नियमित रूप से एक केले का सेवन एसिडिटी की समस्या से जूझ रहे लोगों के लिए करना फायदेमंद रहता है।

Acidity ka gharelu upchar : नारियल पानी –

पोषक तत्वों से भरपूर नारियल पानी का सेवन भी पेट से जुडी समस्याओं का समाधान करने में फायदेमंद साबित होता है।

नारियल पानी के फायदे (Nariyal Pani Ke Fayde) – Benefits Of Coconut Water In Hindi.

तुलसी : Home Remedies for Acidity in Hindi –

एसिडिटी की समस्या को दूर करने के लिए एक गिलास पानी में 8–10 तुलसी की पत्तियों को कुछ देर तक उबाल लें। इसके बाद पानी को ठंडा होने के लिए छोड़ दें और फिर इसमें चीनी मिलाकर पी जाएँ।

जायफल और सोंठ का मिश्रण : Home Remedies for Acidity in Hindi –

गैस्टिक की समस्या होने पर आप अपने किचन में मौजूद जायफल और सोंठ को पीस कर एक चूर्ण बना लें और इसके एक-एक चुटकी सेवन से एसिडिटी की समस्या में आराम मिलेगा।

जीरा और अजवाइन का मिश्रण : Home Remedies for Acidity in Hindi –

गैस्टिक की समस्या को दूर करने के लिए 1 चम्मच जीरे और अजवायन को गैस में भूनें। ध्यान रखें की इस दौरान यह जले नहीं। इसके बाद इसे 1 गिलास पानी में उबाल लें। अब पानी को ठण्डा होने दें और इसमें स्वादनुसार चीनी मिलाकर पी जाएँ।

औषधीय गुणों से भरपूर है अजवाइन. जानिये कैसे करें इसका इस्तेमाल….

एसिडिटी के लक्षण – Symptoms of Acidity in hindi.

सीने में जलन
खट्टी डकार आना
मुँह का स्वाद कड़वा होना
पेट फूलना
जी मिचलाना और उल्टी
साँस से दुर्गंध आना
सिर और पेट में दर्द
बैचेनी होना

कब्ज की समस्या दूर करने के आसान घरेलु उपाय – Kabj Dur Karne Ke Upay.

एसिडिटी होने के कारण – Causes of acidity in hindi.

  • अत्यधिक मसालेदार भोजन करना।
  • डीप फ़्राईड और तैलीय खाद्य पदार्थों का सेवन।
  • जंक फ़ूड, फ़ास्ट फ़ूड का अधिक सेवन।
  • पर्याप्त नींद न लेना।
  • लम्बे समय तक भूखा रहना।
  • कैफीन युक्त ड्रिंक्स का सेवन।
  • जरूरत से अधिक खाना खा लेना।
  • अत्यधिक गरिष्ठ भोजन करना।
  • पानी कम पीना।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT