सनग्लासेस खरीदते समय इन 5 बातों का रखें ध्यान।
TRENDING
  • 6:36 PM » Karwa chauth puja vidhi : जानिए करवा चौथ पूजा विधि के बारे में।
  • 7:57 PM » Platelets badhane wale fruits : प्लेटलेट्स बढ़ाने वाले फ्रूट्स।
  • 10:21 PM » Fridge ki safai karne ka tarika : फ्रिज की सफाई करने के आसान घरेलू टिप्स।
  • 3:21 PM » Sardiyo me skin care in hindi : सर्दियों में स्किन केयर टिप्स।
  • 6:11 PM » Curd face pack in hindi : त्वचा पर दही फेस पैक का प्रयोग करने का तरीका (Dahi face pack in hindi)

Sunglasses buying tips in hindi…गर्मियों के सीजन की शुरुआत के साथ ही मार्केट में सनग्लासेस की बिक्री में भी बढ़ोतरी देखने को मिलती है। सनग्लासेस की बात करे तो कुछ लोग इसे शौकिया तौर पर पहनना पसंद करते हैं तो कुछ लोग तेज धूप से अपनी आंखों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए इसे पहनते हैं। वहीं कुछ टू-व्हीलर ड्राइविंग के दौरान धूप और धूल से बचने के लिए सनग्लासेस को पहनना पसंद करते हैं। सनग्लासेस खरीदते समय आपको कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जल्दबाजी में खरीदा गया चश्मा आँखों के स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक भी साबित हो सकता है। मौजूदा समय की बात करें तो सनग्लासेस की कई वैरायटी मार्केट में उपलब्ध है। जिनमें लोकल और ब्रांडेड दोनों टाइप के धूप के चश्मे उपलब्ध हैं। लोकल धूप के चश्मे बेहद सस्ते तो ब्रांडेंड चश्मे अलग-अलग कीमतों में उपलब्ध हैं। सनग्लासेस चाहे आप लोकल खरीदें या ब्रांडेड इसे खरीदते समय कुछ बातों का विशेष ध्यान देना चाहिए ताकि आप इनसे मिलने वाले समस्त लाभ ले सकें। आईये जानते हैं एक परफेक्ट सनग्लासेस खरीदते समय (Sunglasses buying guide in hindi) किन बातों को ध्यान में रखना चाहिए।

सनग्लासेस खरीदते समय
courtesy google

सनग्लासेस खरीदते समय किन बातों का रखें ध्यान – How to choose the best sunglasses in hindi

UV रेज से सुरक्षा देने वाला हो –

धूप के चश्मे का मुख्य काम आंखों को सूर्य की हानिकारक किरणों से सुरक्षा प्रदान करना होता है। यदि आप जल्दबाजी में एक ऐसा सनग्लास खरीद लेते हैं जो आपको सूर्य की हानिकाकर अल्ट्रा वायलेट रेज (UV Rays) से सुरक्षा प्रदान नहीं कर रहा हो, तो इस पर पैसा लगाना व्यर्थ माना जायेगा। गर्मियों के दिनों में सूर्य से निकलने वाली ये UV रेज हमारी आँखों के लिए बेहद हानिकारक साबित होती हैं। इसलिए हमेशा ऐसा चश्मा खरीदें जो अल्ट्रा वायलेट रेज से आंखों को सुरक्षा प्रदान करता हो।

सनग्लासेस के साइज का भी रखें ध्यान –

धूप का चश्मा लेते समय उसके साइज का ध्यान भी जरूर रखें। मार्केट में आपको अलग-अलग प्राइज रेज में कई सारी वैरायटी के चश्मे बड़े आसानी से उपलब्ध हो जायेंगे। लेकिन अपने लिए आपको एक ऐसे सनग्लास को चुनना होगा जिसका फ्रेम साइज बिलकुल परफेक्ट हो और जो आपकी आंखों को पूरी तरह से कवर कर ले। इसका सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि इस प्रकार का सनग्लास आपकी आँखो को अच्छी तरह से कवर करता है और आंखों को धूप और धूल दोनों से सुरक्षा प्रदान करता है। एक परफेक्ट साइज का सनग्लास आपकी पर्सनालिटी को निखारने का काम भी करता है।

च्विंगम कैसे बनता है : Chingam kaise banti hai -Chewing gum benefits in hindi.

कैसे रंग का होना चाहिए सनग्लास –

सनग्लास के कलर की बात करें तो यह आपकी अपनी पर्सनल चॉइस के ऊपर निर्भर करता है कि आपको कौन सा कलर पसंद आता है। मार्केट में आपको लाइट ग्रीन, गुलाबी, बैगनी, पीला, ब्लू, ब्लैक और सतरंगी कलर के धूप के चश्मे बड़ी आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन हम आपको यही सुझाव देंगे की आंखों को बेहतर सुरक्षा प्रदान कर, धूप से बचाने के लिए आपको सदैव काले या फिर भूरे रंग के सनग्लास को ही खरीदना चाहिए। इस प्रकार का चश्मा आंखों को रिलैक्स रखने में मदद करता है।

रिफ्रेक्टिव इंडेक्स को रखें ध्यान में –

सनग्लासेस खरीदते समय आपको इस बात का ध्यान विशेष रूप से रखना चाहिए कि आप जिस धूप के चश्मे को लेने का मूड़ बना रहे हैं उसका लेंस हाई रिफ्रेक्टिव इंडेक्स है या नहीं। इस प्रकार का लेंस पतला होता है जो कि सूर्य की हानिकारक किरणों को बेहतर तरीके से रिफ्लेक्ट कर आंखों की सुरक्षा करते हैं। कभी भी लो रिफ्रेक्टिव इंडेक्स मैटेरियल लेंस से बना चश्मा नहीं खरीदें।