आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका क्या है?
TRENDING
  • 5:51 PM » Aloe vera gel kaise lagaya jata hai : एलोवेरा जेल लगाने का तरीका।
  • 11:09 PM » Ganesh ji ki kahani : गणेश जी की कहानी (Ganesha story in hindi).
  • 7:19 PM » Toothpaste se pregnancy test kaise kare : टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 9:45 PM » Sabun se pregnancy test kaise kare : साबुन से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 5:49 PM » Chini se pregnancy test kaise kare : चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।

Pani peene ka sahi tarika kya hai…क्या आप आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका जानते हैं? अक्सर जब हमें बहुत जोरों की प्यास लगी हो तब हम पानी बहुत जल्दी में खड़े-खड़े ही पी जाते हैं। ऐसा करने से हमारी प्यास भी बुझ जाती हैं और शरीर में तरोताजगी भी आती है। लेकिन क्या आप जानते हैं आयुर्वेद के अनुसार इस तरह से पानी पीना सही नहीं माना जाता है। ऐसे में आपके मन में भी यह सवाल जरूर आता होगा कि आखिर आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका क्या है?

आपको बता दें कि आयुर्वेद में खड़े होकर पानी पीना स्वास्थ्य के लिहाज से नुकसानदायक माना जाता है। इसके बजाय आयुर्वेद में बैठ कर पानी पीने को सही माना जाता है। यदि आप पालथी मार कर बैठते हैं और फिर पानी पीते हैं तो यह तरीका आयुर्वेद में सर्वोतम माना गया है। आयुर्वेद के मुताबिक भोजन ग्रहण करने के लिए भी यह अवस्था सर्वोतम मानी जाती है।
इसके अलावा आयुर्वेद के अनुसार पानी को फटाफट एक ही बार में गट-गट करके नहीं पीना चाहिए। इसके बजाय रुक-रुक कर छोटे-छोटे सिप लेकर पानी को पीना चाहिए। ऐसा करने का फायदा यह होता है कि शरीर में प्रवेश करने के पश्च्यात पानी का तापमान शरीर के तापमान के समान हो जाता है और पानी शरीर के अंदरूनी अंगों को किसी प्रकार की हानि नहीं पहुँचाता। वहीं जो लोग एक साँस में फटाफट पानी को पी जाते हैं पानी उनके शरीर के अंगो के तापमान को अपने तापमान के अनुसार बदलने की कोशिश करने लगता है। जिसका स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ता है। आईये जानते हैं आयुर्वेद के अनुसार पानी पीने का सही तरीका (Pani peene ka sahi tarika kya hai) और इससे जुडी अन्य बातें।

पानी पीने का सही तरीका
courtesy google