5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे : 5 Mukhi Rudraksha Pahnane Ke Fayde.
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

5 mukhi rudraksha pahnane ke fayde…हिन्दू धर्म में रुद्राक्ष बहुत पवित्र माना जाता है। बड़े-बड़े पुजारी या आस्था से जुड़े लोगों को आपने रुद्राक्ष की माला धारण किये देखा होगा। आज हम बात करेंगे 5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे और इससे जुड़े कुछ अन्य महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में। रुद्राक्ष शब्द की उत्पत्ति ‘रुद्र’+‘अक्ष’ से मिलकर हुई जहाँ रूद्र का अर्थ भगवान शिव से और अक्ष का अर्थ आँसू से है। कुल मिलाकर देखा जाए तो रुद्राक्ष का सीधा संबंध भगवान शिव से है। यही कारण है कि हिन्दू धर्म में रुद्राक्ष की बहुत अधिक मान्यता है। साथ ही इसे बहुत पूजनीय भी मना जाता है। पांच मुखी रुद्राक्ष की बात करें तो सभी रुद्राक्षों में इसकी सबसे अधिक मान्यता है। रुद्राक्ष का पेड़ मुख्यतः पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाता है। सबसे अच्छी गुणवत्ता का रुद्राक्ष नेपाल के पहाड़ी क्षेत्रों में पाया जाता है। हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार रुद्राक्ष धारण करने से सभी प्रकार की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है और पहनने वाले की इच्छाएं पूरी होती हैं। आईये जानते हैं 5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे (5 mukhi rudraksha pahnane ke fayde) लेकिन उससे पहले जान लेते हैं रुद्राक्ष के प्रकार।

रुद्राक्ष के प्रकार – Types of rudraksha in hindi.

एकमुखी रुद्राक्ष (1 Mukhi Rudraksha in hindi)
दो मुखी रुद्राक्ष (2 Mukhi Rudraksha in hindi)
तीन मुखी रुद्राक्ष (3 Mukhi Rudraksha in hindi)
चतुर्मुखी रुद्राक्ष (4 Mukhi Rudraksha in hindi)
पंचमुखी रुद्राक्ष (5 Mukhi Rudraksha in hindi)
छह मुखी रुद्राक्ष (6 Mukhi Rudraksha in hindi)
सात मुखी रुद्राक्ष (7 Mukhi Rudraksha in hindi)
आठ मुखी रुद्राक्ष (8 Mukhi Rudraksha in hindi)
नौ मुखी रुद्राक्ष (9 Mukhi Rudraksha in hindi)
दशमुखी रुद्राक्ष (10 Mukhi Rudraksha in hindi)
ग्यारह मुखी रुद्राक्ष (11 Mukhi Rudraksha in hindi)
बारह मुखी रुद्राक्ष (12 Mukhi Rudraksha in hindi)
तेरह मुखी रुद्राक्ष (13 Mukhi Rudraksha in hindi)
चौदह मुखी रुद्राक्ष (14 Mukhi Rudraksha in hindi)

5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे
courtesy google

करवा चौथ व्रत की कहानी | Karva Chauth Vrat Ki Kahani In Hindi.

5 मुखी रुद्राक्ष पहनने के फायदे (5 mukhi rudraksha pahnane ke fayde) – Benefits of 5 mukhi rudraksha in hindi.

  • ऐसी मान्यताएं हैं कि 5 मुखी रुद्राक्ष में स्वयं भगवान शिव का वास होता है इसलिए इसे धारण करने से अकाल मृत्यु को टाला जा सकता है।
  • 5 मुखी रुद्राक्ष को पहनने से आपके आस पास मौजूद नकारात्मक ऊर्जा नष्ट होती है साथ ही सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है।
  • शिव महापुराण के अनुसार, 5 मुखी रुद्राक्ष पहनने से सोचने की क्षमता में वृद्धि होती है, जिससे आलस, थकान एवं अनिद्रा की समस्या भी दूर होती है।
  • 5 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से दिमाग की कार्यक्षमता में बढ़ावा होता है साथ ही यह एकाग्रता को भी बढ़ाता है।
  • इसको पहनने से मन शांत होता है और व्यक्ति को तनाव और स्ट्रेस जैसी समस्याओं से छुटकारा मिलता है।
  • ऐसा माना जाता है कि इसे धारण करने से व्यक्ति को स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं। जिससे व्यक्ति को निरोगी काया मिलती है।
  • यह व्यक्ति के अंदर मौजूद भय का नाश करता है और व्यक्ति निडर बनता है।
  • इसे धारण करने से व्यक्ति का झुकाव आध्यात्मिकता की ओर अधिक बढ़ता है।
  • इसे पहनने से बृहस्‍पति के अशुभ प्रभाव को टाला जा सकता है।
  • 5 मुखी रुद्राक्ष कुंडली में मौजूद गुरु चांडाल योग के लिए एक प्रभावी उपाय है। लेकिन इसके लिए इसे आठ मुखी के साथ रुद्राक्ष के साथ पहनना चाहिए।
  • विद्यार्थियों के लिए भी इसको पहनना फायदेमंद होता है।
  • मानशिक शांति खोज रहे लोगों के लिए भी इसे पहनना फायदेमंद रहता है।

कई परेशानियों की कारगर दवा हैं लाल मिर्च के ये टोटके, इस तरह अपनाएं।

5 मुखी रुद्राक्ष धारण करने से मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ –

  • कब्ज की समस्या में लाभकारी।
  • रक्तचाप को नियंत्रित करता है।
  • दिमागी कार्यक्षमता बढ़ाता है।
  • एकाग्रता बढ़ाता है।
  • तनाव, क्रोध, रक्तचाप, मानसिक विकलांगता, मधुमेह, बवासीर, मोटापा, हृदय की समस्याओं, कुपोषण की समस्याओं आदि के प्रभाव को रोकने का काम करता है।

5 मुखी रुद्राक्ष धारण करने का तरीका –

पांच मुखी रुद्राक्ष को धारण करने से पूर्व प्रातःकाल स्नानादि करने के बाद स्वच्छ वस्त्र धारण करके उत्तर दिशा में बैठकर 108 बार ऊं ह्रीं नम: मंत्र (5 mukhi rudraksha mantra) का जाप करना चाहिए। गुरुवार का दिन इसे धारण करने का सबसे अच्छा दिन माना जाता है। इसे आप ब्रेसलेट या पेंडेंट के रूप में धारण कर सकते हैं।

नोट – ऊपर बताई गयी बातें धार्मिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिनका कोई वैज्ञानिक प्रमाण उपलब्ध नहीं है।

Paparazzi Meaning In Hindi : क्या है पैपराजी का मतलब, पैपराजी कौन हैं?

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT