डाय‍टीशियन रूजुता ने बताए अचार से जुड़े मिथक, इन 4 प्वाइंट में समझे।
TRENDING
  • 9:36 PM » कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने के लिए एक्सरसाइज एंव योगा : Cholesterol Kam Karne ki Exercise and Yoga.
  • 7:12 PM » गर्मियों में त्वचा को निखारे होममेड मैंगो फेस पैक ऐसे करें इस्तेमाल – Mango Face Pack in hindi.
  • 10:39 PM » कोलेस्ट्रॉल कम करने के उपाय। How to reduce cholesterol in hindi.
  • 11:41 PM » गर्मियों में क्या खाएं (Garmiyo me kya khana chahiye) – what to eat in summer in hindi.
  • 11:21 PM » जानिए खाली पेट लौंग खाने के फायदे – Benefits of eating cloves on empty stomach in hindi.

खाने के साथ अचार तो आपने जरूर खाया होगा। लेकिन क्या कभी आपने अचार से जुड़े मिथक के बारे में भी सुना? कई लोगों का मानना होता है कि अचार का सेवन स्वास्थ्य के लिहाज से अच्छा नहीं रहता। यही कारण है कि अचार चाहे कितना ही स्वादिष्ट क्यों न बना हो कई लोग उसे नहीं खाते। इसलिए जरूरी है कि आप अचार से जुड़े कुछ मिथकों के बारे में भी जान लें। हाल ही में फेमस सेलिब्रिटी न्यूट्रिशनिस्ट रूजुता दिवेकर ने अपने इंस्टग्राम अकाउंट पर अचार से जुड़े मिथक के ऊपर बात करी।

अचार खाना भला किसे पसंद नहीं होता। खाने के साथ आचार मिल जाए तो इसके खाने के स्वाद में चार चाँद लग जाते हैं। अचार कई तरह की सब्जियों और फलों का प्रयोग कर बनाया जाता है। इसे बनाने के लिए फल और सब्जियों में नमक, तेल और कुछ मसाले डालें जाते हैं। अचार का प्रयोग खाने के साथ, पराठों के साथ, रोटी के साथ, दाल चावल के साथ किया जाता है। इसलिए यह कहना गलत नहीं होगा की हमारे देश में अचार खाने का एक अभिन्न अंग के रूप में जाना जाता है। शादी-पार्टी से लेकर घर के खाने तक में आपको खाने के साथ अचार जरूर देखने को मिल जाएगा।

देश में कुछ लोकप्रिय अचारों की बात करें तो इनमें हरी मिर्च, लाल मिर्च, आम, लहसुन, नींबू, अदरक, गोभी, गाजर और मिक्स अचार शामिल हैं। इन्हें बनाने के लिए नमक, तेल, जीरा, हल्दी, कलोंजी, लाल मिर्च पाउडर, सौंफ आदि का इस्तेमाल किया जाता है। अचार से जुड़े मिथक के ऊपर बात करते हुए डाय‍टीशियन रुजुता दिवेकर ने बताया कि अचार का सेवन करना आपके स्वास्थ्य पर कितना प्रभाव डालता है। आइए जानते हैं क्या हैं अचार से जुड़े मिथक।

अचार से जुड़े मिथक

रूजुता दिवेकर से जानें अचार से जुड़े मिथक : Myths about pickles

मिथक नंबर 1-
अचार नमक और तेल से भरा होने के कारण स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता।

फैक्ट –
नमक और तेल अधिक होने के कारण कई लोग अचार का सेवन करने से परहेज करते हैं। रूजुता दिवेकर की मानें तो अचार में मौजूद नमक और तेल ऐसे बैक्टीरिया का उत्पादन करते हैं जो आपकी आँतों के अनुकूल होते हैं। यानि की इसका सेवन करने से पाचन क्रिया और अधिक विकसित होती है। पाचन तंत्र दुरुस्त रहेगा तो भोजन के सभी पोषक तत्व आपके शरीर को मिलेंगे।

मिथक नंबर 2-
अचार से जुड़े मिथक की बात करें तो कुछ लोगों का मानना है कि अचार में मौजूद नमक उच्च रक्तचाप का कारण बन सकता है।

फैक्ट –
डाय‍टीशियन रुजुता दिवेकर इस मिथक के ऊपर बात करते हुए कहती हैं कि सिर्फ नमक के सेवन को आप हाई ब्लड प्रेशर के लिए जिम्मेदार नहीं मान सकते। इसके पीछे का कारण गलत लाइफस्टाइल, व्यायाम न करना, उचित नीदं न लेना, फ़ास्ट फूड और जंक फूड का अधिक सेवन करना होता है। इन सबके अलावा आपको प्रोसेस्ड और पैकेज्ड फूड का सेवन करने से भी बचना चाहिए। रुजुता के मुताबिक घर पर आप ऐसा अचार तैयार कर सकते हैं जो ब्लड प्रेसर की समस्या में भी खाया जा सकता है। बस इसके लिए आपको सफेद नमक की जगह सेंधा नमक का प्रयोग करना होगा।

बड़े काम के हैं पत्ता गोभी के पत्ते, इन तरीकों से करें प्रयोग।

मिथक नंबर 3-
अचार से जुड़े मिथक की बात करें तो कुछ लोगों का यह भी कहना है की इसका तेल दिल के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता।

फैक्ट –
रूजुता दिवेकर की मानें तो वसा या तेल के सेवन से दिल की समस्याएं नहीं होती हैं। रुजुता के मुताबिक
दिल की बिमारियों के लिए भी गलत लाइफस्टाइल सीधे तौर पर जिम्मेदार होता है। उनके मुताबिक अचार को तैयार करने के लिए आप अपने क्षेत्र के अनुसार पारम्परिक और ऑर्गेनिक तेल का प्रयोग करें। इसके लिए आप
मूंगफली, सरसों, तिल या गिंगले के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। आपको बाजार में बने अचार का सेवन करने से बचना चाहिए।

मिथक नंबर 4-
अचार का सेवन करना है अनहेल्दी।

फैक्ट –
अचार से जुड़े मिथक की बात करें तो कई लोग इसके सेवन को अनहेल्दी मानते हैं। ऐसे में रूजुता दिवेकर कहती हैं कि अचार में कई प्रकार के मिनरल्स, विटामिन्स और आंत के लिए अनुकूल हेल्दी बैक्टेरिया मौजूद होते हैं। नियमित रूप से इसका सेवन करने से एनीमिया, ब्लोटिंग, विटामिन डी, और विटामिन बी 12 की कमी को दूर किया जा सकता है। लेकिन आपको बाजार में मिलने वाले अचार की जगह होममेड अचार का ही सेवन करना चाहिए।

View this post on Instagram

Pickles – Fears and facts Fear – pickle is full of salt & oil Fact – without the oil and salt, the gut friendly bacteria won’t grow and you won’t have all the benefits of pickle. Fear – the salt will cause BP Fact – it’s not salt that causes BP, it’s habits like lack of exercise, poor sleep hygiene and packaged, processed food that causes it. Use unprocessed jada or kala or sendha namak as per your food heritage. Fear – Oil is not good for heart health. Fact – consumption of fat or oil doesn’t cause heart problems, it’s habits (refer to the fact related to BP above). Use kacche ghani ka groundnut/ mustard/ til/ gingley oil according to your food heritage. Fear – But pickle is unhealthy Fact – Pickle is a store house of minerals, vitamins and friendly bacteria. 1-2 tsp of pickle everyday can help reduce bloating, anaemia, Vit D & B12 deficiencies and is even helpful for IBS. Conditions apply – ghar pe banao, pyaar se khao.

A post shared by Rujuta Diwekar (@rujuta.diwekar) on

ये हैं भुट्टे के बाल का सेवन करने के 10 चमत्कारी स्वास्थ्य लाभ, आप भी जानिए।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT

%d bloggers like this: