चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध
TRENDING
  • 9:51 PM » वजन कम करने वाले फल – Best fruits for weight loss in hindi.
  • 10:31 PM » चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on chandrashekhar azad in hindi.
  • 9:30 PM » त्वचा के लिए नीम के फायदे – Neem benefits for skin in hindi.
  • 9:55 PM » घर से कीड़े-मकोड़ों को भागने के आसान घरेलू नुस्खे.
  • 11:18 PM » पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए करें इन ड्रिंक्स का सेवन।

10 lines on chandrashekhar azad in hindi…प्यारे बच्चों कैसे हो आप लोग? आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध। चंद्रशेखर आज़ाद एक महान क्रांतिकारी और स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने भारत में ब्रिटिश शासन को हिलाकर रख दिया था। उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ गुरिल्ला युद्ध की शुरुआत की, इसलिए उनका नाम ब्रिटिश सरकार की हिटलिस्ट अग्रिम पर में था। हालांकि चंद्रशेखर आजाद सिर्फ 25 साल तक जीवित रहे, लेकिन इस छोटी सी अवधि में वे हर व्यक्ति के लिए एक आदर्श बन गए। आईये जानते हैं परीक्षा में अच्छे नंबर लाने के लिए चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध (10 lines on chandrashekhar azad in hindi) किस तरह से लिखा जाना चाहिए।

चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन

चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on chandrashekhar azad in hindi.

  1. चंद्रशेखर आजाद का जन्म 23 जुलाई 1986 को मध्य प्रदेश राज्य के एक छोटे से शहर बारबरा गाँव में हुआ था।
  2. चंद्रशेखर ‘आजाद’ उन भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों में शमिल थे, जिन्होंने देश को स्वतंत्रता दिलाने में अहम भूमिका निभाई।
  3. चंद्रशेखर आजाद का असली नाम चंद्रशेखर तिवारी था।
  4. वर्ष 1921 में, असहयोग आंदोलन में भाग लेते हुए, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और अदालत में मजिस्ट्रेट के पूछने पर उन्होंने अपना नाम ‘आजाद’ बताया।
  5. चंद्रशेखर आजाद के पिता का नाम पंडित सीताराम तिवारी और माता का नाम जगदानी देवी था।
  6. चंद्रशेखर आजाद संस्कृत के महान विद्वान थे और उन्होंने वाराणसी के काशी विद्यापीठ से शिक्षा ग्रहण की थी।
  7. 15 साल की उम्र में चंद्रशेखर आजाद को असहयोग आंदोलन के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था।
  8. चंद्रशेखर आजाद जलियांवाला बाग हत्याकांड से काफी दुखी हुए और शांतिपूर्ण क्रांति को छोड़कर एक स्वतंत्रता सेनानी में बदल गए।
  9. चंद्रशेखर आजाद का नाम काकोरी ट्रेन डकैती, असेंबली में बम विस्फोट, लाहौर में सांडर्स की शूटिंग और लाला लाजपत राय की हत्या का बदला लेने जैसे कई हिंसक कृत्यों में शामिल था।
  10. 27 फरवरी 1931 को, ब्रिटिश पुलिस ने चंद्रशेखर आजाद को पकड़ने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने अपनी ही पिस्तौल से खुद को गोली मार ली।

ये भी पढ़ें –

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT