नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर 10 लाइन निबंध.
TRENDING
  • 6:44 PM » शिक्षक दिवस पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on teachers day in hindi.
  • 11:11 PM » गाड़ियों में सनरूफ क्यों दिया क्यों दिया जाता है – Sunroof uses in car in hindi.
  • 10:30 PM » मानसून के मौसम में खान-पान का रखें विशेष ध्यान करें इन्हें खाद्य पदार्थों को डाइट में शामिल.
  • 9:41 PM » घर पर फेस सीरम को बनाने की विधि – Homemade face serum in hindi.
  • 9:43 PM » ऑलिव ऑयल कितने प्रकार का होता है – Types of olive oil in hindi.

10 lines on subhash chandra bose in hindi… बच्चों कैसे हो आप लोग? आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर 10 लाइन निबंध। बच्चों सुभाष चंद्र बोस का बोस का नाम देश के सबसे महान स्वतंत्रता सेनानियों की सूची में सबसे ऊपर हैं। उन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लिया और असहयोग आंदोलन में भी अपना बहुमूल्य योगदान दिया। वह एक महान क्रांतिकारी देशभक्त थे और हमारे देश के समाजवादी शासन में विश्वास करते थे। नेताजी ने भारत के ब्रिटिश शासकों के खिलाफ लड़ाई लड़ने में अहम भूमिका निभाई थी। इसके लिए उन्होंने आजाद हिन्द फौज का गठन भी किया था। नेताजी का मुख्य नारा था तुम मुझे खून दो मई तुम्हें आजादी दूंगा। बच्चों आईये जानते हैं नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर 10 लाइन निबंध (10 lines on subhash chandra bose in hindi) किस तरह से लिखना चाहिए।

सुभाष चंद्र बोस पर 10 लाइन

नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on subhash chandra bose in hindi.

  1. नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक में हुआ था।
  2. सुभाष चंद्र बोस की माता का नाम प्रभा देवी और पिता का नाम जानकी बोस था जो एक प्रसिद्ध वकील थे।
  3. सुभाष चंद्र बोस ने अपनी शिक्षा कोलकाता के प्रेसीडेंसी कॉलेज से पूरी की और बाद में आगे की पढ़ाई के लिए 1919 में इंग्लैंड चले गए।
  4. आजाद हिंद फौज की स्थापना 1942 में नेता जी सुभाष चंद्र बोस ने की थी।
  5. सुभाष चंद्र बोस स्वामी विवेकानंद और रामकृष्ण परमहंस से बेहद प्रभावित थे।
  6. सुभाष चंद्र बोस को 1923 में ऑल इंडिया युथ का प्रेसिडेंट चुना गया था।
  7. नेता जी को सविनय अवज्ञा आंदोलन के लिए जेल में डाल दिया गया और बाद में सन 1930 में वे कलकत्ता के मेयर बने।
  8. सुभाष चंद्र बोस का प्रसिद्ध नारा “तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा” है।
  9. वर्ष 1943 में नेताजी ने जापान जाकर भारतीय राष्ट्रीय सेना का गठन शुरू किया था।
  10. 18 अगस्त 1945 में ताइहोकू में विमान क्रैश में उनकी मृत्यु हो गयी थी, परन्तु उनका शव आज तक प्राप्त नहीं हुआ।

ये भी पढ़ें –

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT