जानिए पीरियड्स लेट होने के कारण : Period Late Aane Ke Karan.
TRENDING
  • 5:27 PM » How dengue spread in hindi : (Dengue kaise hota hai) डेंगू कैसे होता है?
  • 6:36 PM » Karwa chauth puja vidhi : जानिए करवा चौथ पूजा विधि के बारे में।
  • 7:57 PM » Platelets badhane wale fruits : प्लेटलेट्स बढ़ाने वाले फ्रूट्स।
  • 10:21 PM » Fridge ki safai karne ka tarika : फ्रिज की सफाई करने के आसान घरेलू टिप्स।
  • 3:21 PM » Sardiyo me skin care in hindi : सर्दियों में स्किन केयर टिप्स।

Period nahi aane ke karan…क्या आपकी डेट निकल जाने के बावजूद आपको अभी तक पीरियड्स नहीं हुए। पीरियड्स लेट होने के पीछे कई कारण हो सकते हैं। यदि आप एक महिला हैं तो आप पीरियड्स की अहमियत से अच्छी तरह परिचित होंगी। यदि कभी किसी कारण आपकी पीरियड की डेट निकल जाए और पीरियड्स न हो तो चिंतित होना बहुत स्वाभाविक बात है। आमतौर पर एक स्वस्थ्य महिला को हर माह में 21 से 35 दिन के अंतराल में मासिक धर्म हो जाने चाहिए। हालाँकि इनकी डेट में थोड़ा बहुत अंतर् होना बहुत सामान्य बात है। लेकिन यदि आपकी मासिक धर्म की डेट निकले हुए बहुत अधिक दिन हो गए और आपको अभी तक पीरियड्स नहीं हुए तो यह बेहद चिंता का विषय होता है। पीरियड्स लेट होने (Period nahi aane ke karan) या नहीं होने के कई कारण हो सकते हैं। इस विषय में आपको चिकित्सीय सलाह अनिवार्य रूप से लेनी चाहिए। आईये जानते हैं मासिक धर्म लेट होने के पीछे कौन से कारण जिम्मेदार हो सकते हैं?

पीरियड्स लेट होने
pic google

पीरियड्स लेट होने के कारण/पीरियड्स नहीं आने के कारण (period late aane ke karan) – Late period reason in hindi

गर्भावस्था –

पीरियड नहीं आने के पीछे का सबसे बड़ा कारण है प्रेग्नेंसी। एक बार यदि आप प्रेग्नेंट हो जाती हैं तो आपको गर्भावस्था के दौरान पूरे नौ महीनों तक पीरियड्स नहीं आएंगे। हालाँकि इस दौरान कई बार आपको हल्की ब्लीडिंग हो सकती है लेकिन इसे मासिक धर्म नहीं माना जायेगा।

स्तनपान –

यदि आप अपने बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग करवाती हैं तो आपको भी इस प्रकार की समस्या का सामना करना पड़ता होगा। ऐसा भी देखा गया है कि स्तनपान करवाने महिलाओं को नियमित मासिक धर्म आने तब तक शुरू नहीं होते जब तक वह बच्चे को स्तनपान कराना बंद नहीं कर देती हैं।

पीरियड्स (माहवारी) का दर्द कम करने के घरेलू टिप्स।

मेनोपॉज –

इस प्रकार कि समस्या एक निश्चित उम्र के बाद आना शुरू होती है। जब महिलाएं 40 से 45 साल की उम्र के आस-पास पहुँचती हैं तब उनके शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होने लगते हैं। जिनके कारण पीरियड्स आना बंद हो सकता है। यदि यह प्रक्रिया समय से पहले हो जाए तो इसे प्री-मेनोपॉज कहा जाता है।

पीरियड्स लेट होने के कारण – (period late aane ke karan) – Late period reason in hindi.

तनाव –

कई बार मासिक धर्म में अनियमिता का कारण तनाव भी हो सकता है। किसी भी तरह का शारीरिक व मानसिक स्ट्रेस आपके पीरियड की डेट को सीधे तौर पर प्रभावित कर सकता है और आपको इनमें अनियमितता देखने को मिल सकती है। इसलिए योग करें मेडिटेशन करें और स्ट्रेस फ्री लाइफ जियें।

वजन का घटना या बढ़ना –

सुनने में भले ही आपको यह थोड़ा अजीब जरूर लग सकता है। लेकिन आपको बता दें कि वजन में आया अचानक परिवर्तन भी पीरियड लेट होने का कारण बन सकता है। इसलिए अपने वजन को हमेशा मेंटेन कर के चलें। बाहर का कुछ भी खाने कि बजाय घर में बना पोषक तत्वों से भरपूर भोजन ग्रहण करें।

लेडीज स्पेशल। पीरियड्स के दौरान बचें इन चीजों का सेवन करने से।

बीमारी –

कई बिमारियों के चलते भी पीरियड्स में अनियमितता देखने को मिलती है। कई बार लम्बे समय तक चलने