(डायबिटीज) मधुमेह को जड़ से खत्म करने के आसान घरेलु उपाय
TRENDING
  • 5:51 PM » Aloe vera gel kaise lagaya jata hai : एलोवेरा जेल लगाने का तरीका।
  • 11:09 PM » Ganesh ji ki kahani : गणेश जी की कहानी (Ganesha story in hindi).
  • 7:19 PM » Toothpaste se pregnancy test kaise kare : टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 9:45 PM » Sabun se pregnancy test kaise kare : साबुन से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 5:49 PM » Chini se pregnancy test kaise kare : चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।

आज के इस आधुनिक दौर में अनियमित जीवनशैली और बाहर के खराब खान-पान के कारण कई बीमारियां हमे आ घेरती हैं।
इनमें से कई बीमारियों का तो इलाज तक हमारे देश भारत में उपलब्ध नहीं है. आज हम बात करेंगे एक ऐसी बीमारी कि जिसे आम बोलचाल की भाषा में शुगर यानि की (डायबिटीज) मधुमेह भी कहा जाता है. (डायबिटीज) मधुमेह एक ऐसी बीमारी है जो एक बार आपको हो जाए तो जल्दी आपका पीछा नहीं छोड़ती. मधुमेह की बीमारी शरीर में अन्य बीमारियों को भी निमंत्रण देती है. पहले ये बीमारियाँ 40 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में होती थी. लेकिन आज की तनावपूर्ण जीवनशैली के कारण ये बीमारी छोटे बच्चों, युवाओं में भी होने लगी है. (डायबिटीज) मधुमेह रोगियों को किडनी, लीवर में बीमारी, आंखों में परेशानी और पैरों में दिक्कत होना आम बात है।

(डायबिटीज) मधुमेह

courtesy google

(डायबिटीज) मधुमेह क्या है :

जब मानव शरीर के पेन्क्रियास (अग्न्याशय) में इन्सुलिन का पहुंचना कम हो जाता है और खून में गुलूकोज़ की मात्रा बढ़ जाती है, ऐसी स्थिति को मधुमेह कहा जाता है. इन्सुलिन एक हार्मोन है जो कि पाचक ग्रंथि द्वारा बनता है. इसका कार्य हमारे द्वारा ग्रहण किए गए भोजन को ऊर्जा में बदला होता है. कहा जाए तो यही वो हार्मोन होता है जो हमारे शरीर में शुगर कि मात्रा को कंट्रोल कर नियमित ढंग से चलता है. मधुमेह के रोगियों के शरीर को भोजन से एनर्जी बनाने में परेशानी होने लगती है और गुलकोज़ का बढ़ा स्तर शरीर के अंगो को नुकसान पहुँचता है।

(डायबिटीज) मधुमेह के लक्षण :

चिड़चिड़ापन, बार बार मूत्र आना, आँखों से कम दिखाए देना, जख्मों का देरी से भरना, चक्कर आना और बार बार फुंसिया निकलना ये सब मधुमेह से पहले होने वाले लक्षण है इनको नज़र अंदाज़ न करे।

(डायबिटीज) मधुमेह से बचने के लिए हम कुछ उपाए अपना सकते हैं-

* लहसुन ,बादाम ,अंकुरित दाल, चना,प्याज़ आदि को अपने खाने में शामिल करे।

* सब्जियों में मेथी, फूलगोभी, करेला, मूली, टमाटर, लोकी, तोरी, पालक, बैगन, हरे पत्ते वाली सब्ज़िया खाए।

* फलो में आंवला, नीबू, पपीता, खरबूज, अमरुद जो कच्चा हो, संतरा, मौसमी, जायफल, नासपाती का सेवन करे।

* मेथी को रात को भिगो कर रख दे और रोज सुबह उठ कर खाली पेट उसका सेवन करे।

* गेहू और जो को बराबर मात्रा में मिला ले और इससे बने रोटियाँ ही खाए।

* नीदं पूरी ले, चेकअप के लिए डॉक्टर के पास जाते रहें। शराब, धूम्रपान का सेवन न करे यही आपके लिए बेहतर है।

क्या न खाए : आलू, चावल, मक्खन का सेवन न करे।

“डायबिटीज कंट्रोल डाइट”, शुगर फ्री खाना क्यों जरूरी होता है ?

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT