नवरात्री में कैसे करें कन्या पूजन? आईये जानते हैं नवरात्रि में कन्या पूजन विधि।
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

नवरात्रि में कन्या पूजन विधि…कन्या पूजन अष्टमी या नवमी वाले दिन किया जाता है। इस दिन लोग 9 कन्याओं को अपने घर पर बुलाकर उनका भव्य आदर सत्कार करते हैं, और उन्हें चना, हलवा और पूड़ी खिलाते हैं। नवरात्री में अष्टमी और नवमी वाले दिन 10 साल से कम उम्र की कन्याओं को अपने घर बुलाकर भोजन करना बहुत पुण्य का काम माना जाता है। इन सभी कन्याओं को देवी का रूप भी माना जाता है। अंत में सभी कन्याओं के माथे में अक्षत पिठिया से तिलक किया जाता है, और उनसे आशीर्वाद लेने के पश्च्यात उनको दक्षिणा देकर खुशी-खुशी विदा किया जाता है। माना गया है कि ऐसा करने से माँ दुर्गा आपसे प्रसन्न हो जाती है और आप के परिवार पर सदैव कृपा बनाये रखती हैं। आइये जानते हैं नवरात्रि में कन्या पूजन विधि।

नवरात्रि के व्रत में क्या-क्या खाया जाता है?

नवरात्रि में कन्या पूजन विधि

courtesy google

नवरात्रि में कन्या पूजन विधि : Navratri kanya pujan vidhi 

* सबसे पहले सुबह उठ कर ब्रह्म मुहूर्त में स्नान कर लें.

* पूजा पाठ करने से पहले मंदिर में रखे सभी देवी देवताओं को स्नान करवाएं.

* घर में कन्याओं के आगमन से पहले घर कि साफ, सफाई आदि समाप्त कर लीजिए.

* कन्याओं के लिए भोजन आदि कि व्यवस्था पहले से ही तैयार कर के रखें.

कहीं आप भी तो नहीं कर रहे नवरात्रि के व्रत में ये गलतियां? हो जाईये सावधान !

* 9 कन्याओं को अपने घर पर आमंत्रित करें उनके आगमन पर उनका हाथ जोड़ कर सम्मान करें और माँ दुर्गा के सभी रूपों कि मन में इस्तुति करें.

* इस बात का ध्यान रखे कि कन्याओं कि उम्र 10 वर्ष से कम हो.

* सभी कन्याओं को साफ स्वच्छ जगह पर बिठायें और किसी बड़ी सी थाल में उनके पैरों को अच्छी तरह से धो कर, पैरों को छू कर उनका आशीर्वाद ग्रहण करें.

* सभी कन्याओं की आरती उतारे और उनको अक्षत पिठिया से तिलक लगाएं और उनका आशीर्वाद ग्रहण करें.

* आरती के पश्च्यात सभी कन्याओं को पूरी, हलवा और चने का प्रसाद खिलाएं.

* अंत में सभी कन्याओं को अपनी सामर्थ्य के अनुसार दक्षिणा और गिफ्ट देकर खुशी खुशी घर से विदा करें.

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT