जल संरक्षण के तरीके - How To Save Water In Hindi.
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

How to save water in hindi…यदि आप जल संरक्षण के तरीके जानना चाहते हैं तो इस आर्टिकल में बताई गयी सभी बातों पर गौर करें। पानी जीवन का अहम हिस्सा है इसका संरक्षण करना हम सभी की नैतिक जिम्मेदारी है। पृथ्वी का 70% हिस्सा पानी से ढका हुआ है और फिर भी, दुनिया के कई हिस्से पानी की गंभीर कमी से जूझ रहे हैं। मनुष्य पानी को एक असीम संसाधन मानता है। हालाँकि, सच्चाई यह है कि पानी एक संपूर्ण संसाधन है जिसे अगर अच्छी तरह से संरक्षित नहीं किया गया तो यह जल्दी समाप्त हो सकता है। ग्लोबल वार्मिंग और जलवायु परिवर्तन से वनस्पतियों और जीवों की विविधता के लिए नए खतरे पैदा होने के साथ, पानी का संरक्षण अनिवार्य हो गया है। इसलिए आने वाली भावी पीढ़ियों के लिए पानी की असीमित आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए इसका संरक्षण किया जाना अति-आवश्यक है। इसके लिए आपको अपनाने होंगे जल संरक्षण के तरीके (How to save water in hindi) आईये जानते हैं इनके बारे में।

जल संरक्षण के तरीके
Photo by Dominika Roseclay on Pexels.com

जल संरक्षण के तरीके – How to save water in hindi.

बेवजह पानी खर्च न करें –

अपने पानी की खपत को नियंत्रण से बाहर न होने दें। अपने दाँत ब्रश करते समय, हाथ धोते समय या बर्तन धोते समय नल को बंद कर दें। ऐसा करने पर हर दिन सैकड़ों गैलन पानी बचाया जा सकता है। केवल जरूरत होने पर ही नल को चलाएं।

जल्दी से नहाने की आदत डालें –

जल्दी स्नान करने से आप समय बचाने के साथ-साथ पानी भी बचा सकते हैं। अक्सर लोग नहाने के दौरान औसतन 10 से 15 लीटर पानी का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन जल्दी से नहाने से आप इस औसत को कम कर पाएंगे। इसके अलावा आपका नहाने में लगने वाला समय भी बचेगा।

जरूरत पड़ने पर ही अपने पौधों को पानी दें –

बरसात के मौसम में होने वाली बारिश से पौधों को पानी की पर्याप्त आपूर्ति हो जाती है। इसलिए बरसात के मौसम में, पौंधों को पानी देने से पहले जांच लें कि इन्हें पानी की आवश्यकता है या नहीं। बेवजह इनमें पानी डालने से बचें। अधिक पानी पड़ने से मिट्टी में मौजूद पोषक तत्व नष्ट होने का खतरा बना रहता है। साथ ही पानी की बर्बादी भी होती है।

पानी की बचत के लिए दोहरे सिंक का उपयोग करें –

अपने किचन में बर्तन धोने के लिए दोहरे सिंक का उपयोग करें। एक सिंक साबुन वाला पानी भरें और दूसरे में साफ़ पानी। पहले बर्तनों को साबुन के पानी से भरे सिंक में डुबाकर साफ़ कर लें। उसके बाद बर्तनों को साफ़ पानी वाले सिंक में डुबाकर साफ़ कर लें। दोहरे सिंक का प्रयोग पानी को बचाने में मदद करते हैं क्योंकि ज्यादातर लोग बर्तन धोते समय नल को खुला रखते हैं।

अपनी कार धोते समय सावधान रहें –

औसतन एक कार वॉश करने पर 150 से 200 लीटर पानी की खपत होती है। इसलिए जरूरी होने पर ही अपनी कार को धोएं। रोजाना कार धोने की जगह, एक माइक्रोफ़ाइबर कपड़े की मदद से कार को साफ़ कर लें। यदि आपको लगता है कार को धोना अति आवश्यक है, तो कार को नल पर लगे पानी के पाइप से धोने की जगह बाल्टी में पानी भरकर धोएं। ऐसा करने से आप पानी की खपत को कम कर सकते हैं।

जल संरक्षण पर 10 लाइन निबंध – 10 Lines On Save Water In Hindi.

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT