स्टडी में हुआ खुलासा, मच्छर को इंसानो का खून चूसने की आदत कैसे लगी?
TRENDING
  • 11:36 PM » Essay on My School in Hindi : स्कूल पर निबंध लिखने का तरीका।
  • 6:57 PM » टंग ट्विस्टर चैलेंज : टंग ट्विस्टर क्या होते हैं? (Best tongue twisters in Hindi).
  • 11:41 PM » Facts About Jupiter In Hindi : बृहस्पति ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य।
  • 10:19 PM » Aloe vera for dry scalp in hindi : ड्राई स्क्लेप पर एलोवेरा जेल कैसे लगाएं?
  • 10:52 PM » Facts about mercury planet in hindi : बुध ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य।

बरसात का मौसम अपने साथ अनेक तरह की बीमारियाँ भी साथ लेकर आता है। इस मौसम में सर्दी, खांसी जुकाम और वायरल फ्लू जैसी समस्याएं हो जाना बहुत आम बात है। मानसून के इस मौसम में अत्यधिक होने वाली बारिश के कारण जगह जगह पानी इकट्ठा होने लगता है। जिसमे मच्छर और अन्य कई बैक्टीरिया पनपने लगते हैं। मच्छरों की बात करें तो बरसात के मौसम में इनका आतंक कई गुना अधिक बढ़ जाता है। मच्छर के कटाने से चिकनगुनिया, डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारी होने का खतरा बना रहता है। लेकिन क्या आप जानते हैं आखिर क्यों होते हैं मच्छर आपके खून के प्यासे? हाल ही में वैज्ञानिको द्वारा मच्छरों के ऊपर हुई एक स्टडी में इस बात का पता लगा है कि शुरुआत में मच्छरों को इंसानो का खून चूसने कि आदत नहीं थी। अब आप सोच रहे होंगे कि मच्छर को इंसानो का खून चूसने की आदत कैसे लगी ? आइए जानते हैं स्टडी के मुताबिक कैसे लगी मच्छर को इंसानो का खून चूसने की आदत।

मच्छर क्यों चूसते हैं इंसानों का खून, स्टडी में हुआ खुलसा
न्यू जर्सी की प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने अफ्रीका के एडीस एजिप्टी (Aedes Aegypti) प्रजाति के मच्छरों के ऊपर एक स्टडी करी, प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने यह स्टडी उन मच्छरों पर कि जो डेंगू, पीला बुखार और जीका वायरस जैसी घातक बीमारियों को फैलाने का कार्य करते हैं। अपनी इस स्टडी में वैज्ञानिकों ने देखा कि सभी मच्छर जीने के लिए सिर्फ इंसानो के खून पर निर्भर नहीं रहते बल्कि वह अन्य चीजें भी खाते हैं।

प्रिंसटन यूनिवर्सिटी की एक शोधकर्ता नोआह रोज के मुताबिक ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी ने मच्छरों की प्रजातियों के खान-पान को लेकर अध्ययन किया हो। उनके मुताबिक इस स्टडी में अफ्रीका के सब-सहारन रीजन के 27 जगहों से एडीस एजिप्टी मच्छर के अंडे लिए गए और इन अंडों से मच्छरों को निकलने दिया। फिर इन्हें इंसान, अन्य जीव, गिनी पिग जैसे जीवों पर लैब में बंद डिब्बों में छोड़ दिया ताकि उनके खून पीने के पैटर्न को समझ सकें। स्टडी में देखा गया कि एडीस एजिप्टी मच्छरों की सभी प्रजातियों का खान पान एक दूसरे से बिलकुल अलग था।

क्या आप भी सर्च कर रहे हैं घर से मच्छर भगाने के उपाय, पढ़ें मच्छर भगाने के इन उपायों को।

स्टडी में यह बात आयी सामने
इस स्टडी के मुताबिक, सिर्फ उन मच्छरों ने इंसानों का खून पीना इसलिए शुरू किया जो सूखे प्रदेश में रहते हैं। इसके पीछे का कारण सूखे मौसम में जब मच्छरों को अपने प्रजनन के लिए पानी की जरूरत पड़ी तो वहां पानी मौजूद नहीं था इसलिए पानी के विकल्प के तौर पर मच्छरों ने वहाँ मौजूद इंसानों और जानवरों का खून चूसना शुरू कर दिया।

क्या कहती है न्यू साइंटिस्ट वेबसाइट की रिपोर्ट
न्यू साइंटिस्ट वेबसाइट में प्रकाशित एक रिपोर्ट के मुताबिक, अफ्रीका के मच्छरों में एडीस एजिप्टी प्राजति के कई मच्छर मौजूद हैं और ये सभी प्रजातियां इंसानों का खून नहीं चूसती। इनमें से कुछ मच्छरों की प्रजातियां ऐसी भी हैं जो अन्य चीजें खा-पीकर अपना गुजारा करती हैं।

क्या मच्छर के काटने से कोरोना वायरस (COVID-19) हो सकता है?

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •