कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत कब पड़ती है?
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

पिछले एक साल से हमारे देश में कोरोना वायरस अपना कहर लगातार बरपा रहा है। मौजूदा समय की बात करें तो यह वायरस अब पहले से और अधिक शक्तिशाली और तेजी से संक्रमित करने वाला बन चूका है। इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण है वायरस में आये म्यूटेशन जो इसे पुराने वायरस से अधिक संक्रामक बनाते हैं। नतीजा यह हो रहा है कि देश में कोरोना संक्रमण के मामले ज्यादा आने के कारण लोग अधिक बीमार पड़ रहे हैं और कई लोगों को साँस लेने में तकलीफ के चलते अस्पताल में भर्ती होना पड़ रहा है। साथ ही कुछ लोग डॉक्टर की सलाह पर होम ऑक्सीजन थेरेपी ले रहे हैं। जिस कारण देश में एका-एक आक्सीजन सिलेंडर की मांग बढ़ने लगी है। क्या आप जानते हैं आखिर कब पड़ती है कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत? यदि नहीं जानते हैं तो आज हम आपके लिए लेकर आए बेहद महत्वपूर्ण जानकारी जिसे पड़ कर आपको यह समझने में आसानी होगी कि आखिर कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत किन अवस्थाओं में पड़ती है।

कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिलेंडर
courtesy google

कोरोना मरीज को ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत कब पड़ती है –

एक स्वस्थ्य व्यक्ति का ऑक्सीजन लेवल कम से कम 95 होना चाहिए। लेकिन जब यह गिरने लगे और 90 से नीचे चले जाए तो यह एक आपातकालीन स्थिति होती है और मरीज को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है। कोरोना से संक्रमित इस प्रकार के मरीजों को सांस लेने में तकलीफ का सामना करना पड़ता है। यदि मरीज की स्थिति क्रिटिकल है और ऑक्सीजन स्तर लगातार नीचे गिर रहा हो तो बिना किसी देरी के मरीज को नजदीकी अस्पताल ले जाना चाहिए। यदि मरीज की स्थिति स्टेबल है और डॉक्टर घर पर होम आइसोलेशन और ऑक्सीजन थेरेपी की सलाह देता है तो आपको पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलेंडर की जरूरत पड़ेगी। यह आपको अपने नजदीकी मेडकिल ऑक्सीजन सप्लायर्स के यहाँ आसानी से मिल जायेगा। इसके अलावा आप इसे ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं। इस प्रकार के पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलेंडर 5000 से 7000 के बीच आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं। हांलाकि पंप काउंट और कुल वॉल्यूम के आधार पर इनकी कीमत अलग-अलग हो सकती है।

WHO के अनुसार कोरोना काल में क्या खाएं – Corona Mai Kya Khaye.

पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलेंडर कितने दिन तक चलता है –

पोर्टेबल ऑक्सीजन सिलेंडर की बात करें तो यह 2.7 kg, 3.4 kg, 4.9 kg और 13.5 kg क्षमता वाले होते हैं। जिसमें 2.7 kg वाला सिलेंडर 2 घंटा 4 मिनट, 3.4 kg वाला सिलेंडर 3 घंटा 27 मिनट, 4.9 kg वाला सिलेंडर 5 घंटा 41 मिनट और 13.5 kg वाला सिलेंडर 14 घंटे 21 मिनट तक चलता है। लेकिन यहाँ आपको इस बात को भी ध्यान में रखना होगा कि किसी भी ऑक्सीजन सिलेंडर के चलने की अवधि इस बात पर भी निर्भर होती है कि मरीज को कितनी मात्रा में ऑक्सीजन दी जा रही है। एक बार सिलेंडर में गैस खत्म हो जाने के बाद आपको इसे रीफिल करवाना होता है।

एक्सपर्ट्स के मुताबिक हैंड सैनिटाइजर का अत्यधिक प्रयोग त्वचा के लिए नुकसानदायक।

  • पोर्टेबल ऑक्सिजन सिलेंडर किट में क्या-क्या होता है?
  • पोर्टेबल ऑक्सिजन सिलेंडर किट में एक सिलेंडर, वॉल्व, रेगुलेटर और मेडिकल ऑक्सिजन मास्क होता है।
  • पोर्टेबल ऑक्सिजन सिलेंडर की जरूरत किन लोगों को पड़ती है?
  • जिन लोगों का ऑक्सीजन लेवल 95 से कम होने के कारण, डॉक्टर की सलाह अनुसार होम आइसोलेशन में हो।
  • कितने समय में ऑक्सिजन सिलेंडर मिल सकता है?
  • यह इस बात पर निभर्र करता है कि आपके शहर में मौजूद ऑक्सिजन सप्लायर डीलर के पास इसकी कितनी अधिक मांग है। यदि मांग कम है तो यह बड़ी आसानी से उपलब्ध हो जायेगा लेकिन मौजूद समय में कोविड-19 के मामलों में आए उछाल के कारण आपको लम्बा वेटिंग पीरियड मिल सकता है।
  • क्या होम आइसोलेशन वाले हर मरीज को ऑक्सिजन सिलेंडर की जरूरत पड़ सकती है?
  • नहीं जिन लोगों का ऑक्सीजन लेवल 95 या 94 से नीचे हो सिर्फ उन्हें ही डॉक्टर की सलाह पर ऑक्सिजन थैरपी लेने की जरूरत पड़ती है।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT