जानिए डेंड्रफ के प्रकार : Types Of Dandruff In Hindi.
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

Types of dandruff in hindi…डेंड्रफ एक ऐसी समस्या है जिससे चाहें पुरुष हों या महिला दोनों ही परेशान रहते हैं। डेंड्रफ यदि हो जाये तो इससे छुटकारा पाना कोई आसान काम नहीं होता। दरअसल डेंड्रफ की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आपको सबसे पहले डेंड्रफ के प्रकार को जानना होगा। ऐसा करने के बाद ही इससे छुटकारा पाया जा सकता है। अक्सर लोग डेंड्रफ को स्कैल्प के ड्राई होने की समस्या समझ कर इसका ट्रीटमेंट शुरू कर देते हैं। लेकिन लाख उपाय अपनाने के बावजूद भी डेंड्रफ की समस्या खत्म होने लगती है। ऐसे में यह बहुत जरूरी हो जाता है कि आप सबसे पहले डेंड्रफ के प्रकार को समझे फिर उसके अनुरूप इसे दूर करने के तरीके अपनाएं। आईये आज के इस आर्टिकल के माध्यम से जानते हैं डेंड्रफ के प्रकार (Types of dandruff in hindi) और उनसे छुटकारा पाने के कुछ आसान उपायों से जुडी जानकारी।

डेंड्रफ के प्रकार
courtesy google

डेंड्रफ के प्रकार – Types of dandruff in hindi.

ड्राय स्किन डैंड्रफ – Dry skin dandruff

यह डेंड्रफ का सबसे कॉमन टाईप होता है जो अधिकतर लोगों में देखा जाता है। इस प्रकार की समस्या गर्मियों के मौसम की तुलना सर्दियों के मौसम में अधिक देखने को मिलती है। सर्दियों के मौसम में स्कैल्प ड्राइनेस की समस्या बढ़ने लगती है। जिसका नतीजा आपके बालों में डेंड्रफ की समस्या बनकर सामने आता है। खासकर इस मौसम में नहाने में उपयोग किया गया गर्म पानी का प्रयोग रुसी की समस्या को अधिक बढ़ाने का काम करता है।

ट्रीटमेंट इस प्रकार की डेंड्रफ की समस्या से निपटने के लिए बालों को गर्म पानी से धोने से बचें। गर्म पानी की जगह सर्दियों में हल्के गर्म पानी का प्रयोग करें। साथ ही अपने बालों पर सप्ताह में 2 से 3 बार आवलें के तेल से मालिश करें। रात में सोने से पहले आंवला ऑयल बालों पर लगाएं। सुबह उठ कर सिर धो लें।

फिक्सी डैंड्रफ –

इस प्रकार की समस्या में डेंड्रफ आपके बालों की जड़ों में परत के रूप में इकट्ठा होने लगती है। जब कभी आप बाल बनाने के लिए कंघी करते हैं डेंड्रफ स्कैल्प से उभरकर बालों के ऊपर आ जाती है। नतीजा यह होता है कि यह आपके कपड़ो और बालों दोनों पर गिरने लगती है। आप जितनी अधिक कंघी करेंगे उतनी अधिक रुसी बालों के ऊपर निकलते जाएगी।

ट्रीटमेंट – इस प्रकार की आसानी से हटने वाली आम रुसी नहीं होती। इलसिए आपको इसे हटाने के लिए डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए। इसके अलावा सिर की सफाई का खास ध्यान रखना चाहिए। साथ ही आपको हेयर प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कम से कम करना चाहिए।

लम्बी, घनी दाढ़ी (Beard) से डेंड्रफ हटाने के आसान घरेलु नुस्खे।

Dandruff ke prakar : ऑयली डैंड्रफ –

इस प्रकार के डेंड्रफ में व्यक्ति के स्कैल्प में सीबम का उत्पादन जरूरत से अधिक होने के कारण ऑयली डैंड्रफ
की समस्या होने लगती है। दरअसल सीबम के अत्यधिक उत्पादन के कारण इस पर धूल, मिट्टी और ऑयल जैसी अन्य गंदगियां अधिक जमा होने लगती है। ये सब मिलकर डेंड्रफ का कारण बनती हैं। इसलिए अपने सिर की साफ-सफाई निरंतर करते रहनी चाहिए।

ट्रीटमेंट – बालों पर प्याज का रस लगाएं और 15 मिनट बाद शैम्पू कर लें। हफ्ते में दो बार एंटी-डैंड्रफ शैम्पू से बाल धोएं। यदि समस्या ठीक नहीं हो रही तो त्वचा रोग विशेषज्ञ को मिलें।

Dandruff ke prakar : फंगल डेंड्रफ –

इस प्रकार की डेंड्रफ स्कैल्प में मौजूद एक प्राकृतिक फंगस मलेएसेजिया के कारण होती है। हालाँकि स्कैल्प पर इसका उत्पादन एक सीमित मात्रा तक ही होता है। लेकिन यदि किन्हीं कारणों के चलते स्कैल्प अधिक ऑयल का बनाने लगी तो मलेएसेजिया का उत्पादन स्वतः ही बढ़ जाता है। नतीजन स्किन सेल्स की मात्रा बढ़ जाती है और यह एक सफेद रंग की परत बना लेती है जो सिर पर डैंड्रफ के रूप में नजर आती है।

ट्रीटमेंट – समय-समय पर सिर को एंटी-डैंड्रफ शैम्पू से धोते रहें और किसी अच्छे डर्मेटोलोजिस्ट से संपर्क करें।

हफ्ते भर के अंदर रुसी को अलविदा कहने के लिए अपनाये रुसी हटाने के घरेलू उपाय.

बीमारी के कारण भी हो सकती है डेंड्रफ –

कई बार डेंड्रफ के पीछे का कारण कोई स्किन से जुडी बीमारी भी हो सकती है। जैसे कि कई लोगों को सोरायसिस और एग्ज़िमा की वजह से भी डैंड्रफ की समस्या का सामना करना पढ़ सकता है। इस प्रकार की समस्या में स्किन सेल्स का उत्पादन जरूरत से अधिक होने लगता है जो धूल, मिट्टी आदि के सम्पर्क में आने के बाद सफेद रंग की पपड़ी बनाने का काम करता है।

ट्रीटमेंट – जल्द से जल्द किसी किसी अच्छे डर्मेटोलोजिस्ट से संपर्क करें।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT