जानिए क्या है जोड़ों के दर्द का अचूक समाधान
TRENDING
  • 5:51 PM » Aloe vera gel kaise lagaya jata hai : एलोवेरा जेल लगाने का तरीका।
  • 11:09 PM » Ganesh ji ki kahani : गणेश जी की कहानी (Ganesha story in hindi).
  • 7:19 PM » Toothpaste se pregnancy test kaise kare : टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 9:45 PM » Sabun se pregnancy test kaise kare : साबुन से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 5:49 PM » Chini se pregnancy test kaise kare : चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।

जोड़ों के दर्द (jodo ka dard) से परेशान व्यक्ति को दैनिक जीवन से जुड़े कई कार्यों को करने में बड़ी कठिनाई का सामना करना पढ़ सकता है। चलने-फिरने में दिक्क्त या उठने-बैठने में दिक्क्त का सामना करना जोड़ों के दर्द से पीड़ित व्यक्ति को सबसे अधिक सताता है। जोड़े का यह दर्द कई बार लगातार और लम्बे समय तक बना रहता है। कई बार यह दर्द हद से अधिक बढ़ जाता है और पीड़ित व्यक्ति के लिए इस दर्द को सहना लगभग असहनीय सा होता है। यदि आप भी (jodo ka dard) जोड़ों के दर्द से परेशान हैं तो कुछ घरेलु नुस्खों को अपनाकर आप इस समस्या पर काफी हद तक नियंत्रण पा सकते हैं। जिन लोगों को घुटने कंधो और जोड़ो में दर्द रहता है यदि वह इन नुस्खों को अपनाएं तो उनका दर्द जल्द ही समाप्त हो सकता है।

जोड़ों के दर्द
courtesy google

जोड़ों के दर्द (jodo ka dard) से परेशान व्यक्ति जरूर अपनाएं ये नुस्खे –

  • एक गिलास गुनगुने पानी में अदरक के रस की कुछ बूंदे डालें। आप चाहे तो सौंठ पाउडर का प्रयोग भी कर सकते हैं। अब इस पानी को खाना खाने के दौरान बीच-बीच में पीते रहें।
  • 100 ग्राम अरंडी के तेल में 80 ग्राम लहसुन को कूट कर डालें …फिर इसे अच्छी तरह से तब तक उबालें जब तक यह जलने ना लगे। अब इस तेल से दर्द वाली जगह पर मालिश करें ..ऐसा करने से आपका दर्द कम होगा और आपको आराम पहुँचेगा।
  • अगर आप रोज सुबह सूर्य की किरणों में मात्र 15 मिनट स्नान करते हैं तो आप सूर्य की इन किरणों से ही अपनी चिकित्सा भी कर लेते हैं. सूर्य की यह किरणें विटामिन डी का अच्छा स्रोत होती हैं। विटामिन डी आपकी हड्डियों को मजबूत बनाने और शरीर में कैल्शियम की कमी को पूरा करता है।

आर्थराइटिस यानी गठिया के प्रकार : Types of arthritis in hindi

क्या आप जानते हैं –

रोम की संस्कृति तो इतनी जबरदस्त थी की 600 साल तक उन लोगों को कभी किसी डॉक्टर, हकीम, दवाई और इंजेक्शन की जरुरत ही नही पड़ी..शायद आपको यह सुनकर हैरानी हो किन्तु वहाँ के लोग रोजाना सुबह-सुबह 15 मिनट सूर्य की किरणों में मात्र स्नान कर लेते थे ..और सूर्य की इन किरणों से ही ये लोग अपनी चिकित्सा कर लेते थे।

किसी भी प्रकार के दर्द का अनुभव बहुत ही कष्दायक होता है। यह अनुभव हमें कई बार किसी चोट या ठोकर लगने, किसी के मारने, या किसी घाव में नमक आदि लगने पर होता है। हड्डी और जोड़ों का यह दर्द बहुत ही पीड़ादायक हो सकता है। हड्डी और जोड़ों की बीमारियों से असहीनय दर्द तथा चलने-फिरने में परेशानी हो सकती है। इनमें से कुछ समस्याओं के लिए तो सर्जरी तक की आवश्यकता पड़ सकती है। लेकिन अधिकांश समस्याएं दवाओं से ठीक हो जाती हैं।

त्रिफला चूर्ण के फायदे : Triphala churna ke fayde.

देखा जाये तो ज्यादातर मामलों यह दर्द चालीस साल की उम्र के बाद शुरू होता है। इसकी शुरुआत घुटनों में हल्के दर्द के साथ होती है। धीरे-धीरे यह दर्द हाथों की अंगुलियों से होते हुए जोड़ों तक पहुँच जाता है। यह दर्द हिलने-डुलने से बढ़ता ही जाता है। अगर दर्द बढ़ता ही जाये तो तुरंत इसका उपचार करना चाहिए। शुरुआत में इसका पता आसानी से लगाया जा सकता है। आमतौर पर यह समस्या पुरुषों से ज्यादा महिलाओं में पाई जाती है। इसकी वजह यह है कि रजोनिवृत्ति के बाद महिलाओं की बोन डेंसिटी बढ़ जाती है। इस बीमारी को जड़ से खत्म नहीं किया जा सकता, किन्तु शुरुआती चरण में ही इसे बढ़ने से रोका जरूर जा सकता है। तकलीफ बढ़ने पर
समस्या गंभीर हो सकती है।

आईये जानते हैं क्या हैं (jodo ka dard) जोड़ों के दर्द के मुख्य लक्षण –

  • हड्डियों में दर्द और खिंचाव महसूस होना
  • एक या एक से अधिक हड्डियों में दर्द या तकलीफ महसूस होना।
  • जोड़ों का दर्द हड्डियों के दर्द की तुलना में कम पाया जाता है।
  • हड्डियों के दर्द का कारण स्पष्ट हो सकता है, जैसे-हड्डियां टूटना
  • यदि हड्डियों में दर्द का कारण अस्पष्ट हो तो मेटास्टासाइजेज (कैंसर जो हड्डियों में फैल सकता है) हो सकता है।

दालचीनी के फायदे : Benefits Of Cinnamon In Hindi

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो