सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने रोका भारत में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल।
TRENDING
  • 10:41 PM » त्वचा को एक दिन में गोरा करने के घरेलू नुस्खे : Ek din me gora hone ka tarika.
  • 7:09 PM » कोलगेट से बाल कैसे हटाएँ – Colgate Se Baal Kaise Hataye?
  • 11:33 PM » गर्भ में पल रहा बेबी लड़का है या लड़की (Garbh me ladka hone ke lakshan) – Baby boy symptoms in hindi.
  • 11:29 PM » बासी रोटी खाने के फायदे (Basi roti khane ke fayde) – Basi roti benefits in hindi.
  • 11:27 PM » जिद्दी खांसी दूर करने के घरेलू नुस्खे (Ziddi khansi ka ilaj) – Home remedies for cough in hindi.

फार्मा की दिग्गज कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने गुरुवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की संभावित कोरोना वैक्सीन कोविशिल्ड के तीसरे चरण के ह्यूमन ट्रायल को रोक रही है। सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने यह फैसला ड्रग्स रेगुलेटर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) द्वारा SII को एक कारण बताओ नोटिस जारी होने के बाद लिया है। इस नोटिस में DCGI ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) से पूछा था कि उसने वैक्सीन के दूसरे देशों में चल रहे ट्रायल के नतीजों के बारे में जानकारी क्यों नहीं दी।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII)
courtesy google

साइरस पूनावाला समूह की तरफ से आया बयान
इस पूरे मामले पर साइरस पूनावाला समूह की तरफ से आए एक बयान में कहा गया कि “हम स्थिति की समीक्षा कर रहे हैं और भारत में परीक्षणों को उस समय तक के लिए रोक रहे हैं जब तक कि एस्ट्राज़ेनेका वैक्सीन का फिर से परीक्षण शुरू नहीं करता है। हम ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के निर्देशों का पालन कर रहे हैं और परीक्षण पर आगे टिप्पणी नहीं कर पाएंगे”।

ब्रिटेन में वैक्सीन लेने से बीमार हो गया था वॉलेंटियर
ब्रिटिश-स्वीडिश कंपनी एस्ट्राजेनिका और ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की संभावित कोरोना वैक्सीन से ब्रिटेन में एक वॉलेंटियर की वैक्सीन लेने के कुछ दिनों बाद तेजी से तबियत बिगड़ने लगी थी। जिसे देखते हुए इस वैक्सीन के तीसरे और अंतिम चरण के ट्रायल को तत्काल प्रभाव से रोकने के निर्देश दिए गए थे। ब्रिटेन में वैक्सीन की स्वतंत्र जाँच के निर्देश दे दिए गए हैं। भारत में इस वैक्सीन का इंसानी ट्रायल सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) की देखरेख में चल रहा है।

DCGI ने भेजा था कारण बताओ नोटिस
DCGI ने अपने कारण बताओ नोटिस में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) से पूछा था कि देश में वैक्सीन ट्रायल के चरण 2 और 3 के ह्यूमन ट्रायल के संचालन के लिए दी गई अनुमति को क्यों नहीं मरीज की सुरक्षा साबित होने तक निलंबित किया जाए।

DCGI के निर्देशों का पालन करेगी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII)
DCGI की और से वैक्सीन पर मिले कारण बताओ नोटिस के जवाब पर कंपनी ने कहा कि वो DCGI के आदेशों का पालन करने के लिए सदैव तत्पर है। कम्पनी को अभी तक ट्रायल पर रोक लगाने के लिए नहीं कहा गया था। यदि DGCI वैक्सीन के ट्रायल पर सुरक्षा कारणों से रोक लगाना चाहती है तो कंपनी उनके निर्देशों का पालन करेगी।

अन्य देशों में भी रोके गए ट्रायल
वॉलेंटियर के बीमार हो जाने के बाद ब्रिटेन की आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन के ट्रायल को ब्रिटेन समेत अमेरिका, ब्राज़ील और साउथ अफ्रीका जैसे देशों में रोक दिया गया था। फिलहाल इस वैक्सीन की स्वतंत्र जाँच करवाई जा रही है। उम्मीद है की जाँच के पूरा हो जाने के बाद फिर से वैक्सीन का ट्रायल शुरू हो सकता है।

अब तक हो चुके कोरोना वायरस की दवा और वैक्सीन बनाने के दावे 

ऐसी महत्पूर्ण खबरों को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शेयर करना ना भूलें। 

ऐसी महत्पूर्ण खबरों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT

%d bloggers like this: