गर्भावस्था में कैल्शियम लेना क्यों जरूरी है?
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

गर्भवती महिलाओं को अक्सर डॉक्टर अपनी डाइट में कैल्शियम को शामिल करने या फिर कैल्शियम सप्लीमेंट लेने की सलाह देता है। ऐसे में आपके मन में यह सवाल जरूर आता होगा कि गर्भावस्था में कैल्शियम लेना क्यों बेहद जरूरी क्यों है? आज के इस लेख में हम आपको बताएँगे गर्भावस्था में कैल्शियम लेना क्यों जरूरी होता है। साथ ही हम चर्चा करेंगे जरूरत से ज्यादा कैल्शियम लेने के नुकसान क्या हैं और वे कौन से खाद्य पदार्थ हैं जिनका सेवन करने से हमारे शरीर में कैल्शियम की आपूर्ति होती है।

गर्भावस्था में कैल्शियम

गर्भावस्था में कैल्शियम लेना क्यों जरूरी है – Pregnancy Me Calcium Ke Fayde?

गर्भावस्था के दौरान शरीर में बहुत से बदलाव के कारण डॉक्टर विटामिन्स लेने की सलाह देते है उसमें से सबसे जरूरी खनिज पदार्थ है कैल्शियम। इससे गर्भ में पल रहे शिशु का विकास अच्छे से होता है गर्भवती महिलाओ में कम कैल्शियम होना या मात्रा से अधिक कैल्शियम होने के कारण से बहुत सी मुश्किलें आ सकती हैं। इसलिए कैल्शियम का ठीक मात्रा में होना एक गर्भवती महिला के लिए बहुत ही जरूरी है। यह गर्भ में पल रहे शिशु के विकास हो रहे हड्डियों और दांतो को मजबूती देता है। साथ ही यह मांसपेशियों का विकास भी अच्छे से करता है इसलिए गर्भावस्था के दौरान आपको अपनी डाइट का विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए। खासकर गर्भावस्था के तीसरे तिमाही में आपको कैल्शियम की मात्रा का खास ध्यान रखना चाहिये क्योंकि इस समय गर्भ में पल रहे शिशु की हड्डियों का विकास तेज़ी से होता है।

कितनी मात्रा में कैल्शियम है जरूरी –

गर्भवती महिलाओ को प्रतिदिन 1000 मि. ग्रा कैल्शियम की जरूरत होती है। इसके लिए आपको रोज अपनी डाइट में कैल्शियम युक्त आहार लेना चाहिए। अधिक प्रीनेटल विटामिन में रोज की जरूरत की पूर्ति के लिए पर्याप्त कैल्शियम नहीं होता है लेकिन कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ से आसानी से इसकी पूर्ति की जा सकती है।

कम मात्रा में कैल्शियम लेना का दुष्परिणाम –

गर्भावस्था में कम कैल्शियम लेने से बहुत सी दिक्कतें आ सकती है। अगर आप गर्भावस्था के दौरान काम मात्रा में कैल्शियम ले रहे है तो प्रेगनेंसी में हाई बीपी, शिशु का जन्म के समय वजन कम होना , प्रीमेच्योर डिलीवरी, शिशु का धीमा विकास, शिशु को ठीक से कैल्शियम न मिल पाना, मांसपेशियों और टांगो में ऐठन , भूख कम लगना जैसी मुश्किलें आ सकती हैं।

ज्यादा मात्रा में कैल्शियम लेने के नुकसान –

ऐसा बहुत ही कम होता है जब हमे भोजन ग्रहण करने से कैल्शियम प्राप्त होता है। सप्लीमेंट लेने पर ही शरीर में कैल्शियम की मात्रा बढ़ती है। अगर आप गर्भावस्था के दौरान कैल्शियम ज्यादा मात्रा में लेते हैं तो इससे आपको पथरी, कब्ज, अन्य खनिज पदार्थ जैसे आयरन और जिंक को सोखने में दिक्क्त होती है। इससे दिल की धड़कन अनियमित होने का भी सामना करना पड़ सकता है। इसलिए गर्भवस्था के दौरान आपको सही मात्रा में कैल्शियम लेना चाहिए।

कैल्शियम के स्रोत –

  • दूध
  • चीनी
  • ब्रोकली
  • सोयाबीन
  • बीन्स
  • बादाम
  • टोफू
  • हरे पत्तेदार सब्जियां

गर्भावस्था के दौरान क्या खाएं (Pregnancy Me Kya Khaye) – Pregnancy Diet In Hindi.

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT