कोरोनिल पर पतंजलि आयुर्वेद का यू-टर्न, कहा- कभी नहीं बोला बना ली कोरोना की दवा।
TRENDING
  • 5:51 PM » Aloe vera gel kaise lagaya jata hai : एलोवेरा जेल लगाने का तरीका।
  • 11:09 PM » Ganesh ji ki kahani : गणेश जी की कहानी (Ganesha story in hindi).
  • 7:19 PM » Toothpaste se pregnancy test kaise kare : टूथपेस्ट से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 9:45 PM » Sabun se pregnancy test kaise kare : साबुन से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।
  • 5:49 PM » Chini se pregnancy test kaise kare : चीनी से प्रेगनेंसी टेस्ट करने का तरीका।

अब से कुछ दिनों पहले बाबा रामदेव और उनके सहयोगी पतंजलि आयुर्वेद के सीईओ आचार्य बाल कृष्ण ने धूमधाम से कोरोनिल दवा को लॉन्च किया था। दवा को लॉन्च करते समय यह दावा किया गया था कि पतंजलि आयुर्वेद की कोरोनिल कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में शत प्रतिशत कारगर आयुर्वेदिक दवा है। लेकिन दवा के लॉन्च के महज कुछ घंटो बाद ही आयुष मंत्रालय ने इसके प्रचार और प्रसार पर रोक लगा दी थी। जिसके बाद से बाबा रामदेव की कोरोनिल दवा लगातार प्रश्नों के घेरे में रही। वहीं इस पूरे मामले पर पतंजलि आयुर्वेद ने यू-टर्न मार लिया है। उत्तराखंड आयुष विभाग द्वारा जारी हुए नोटिस के जवाब में पतंजलि आयुर्वेद ने कहा कि उसने अभी तक कोरोना की कोई दवा नहीं बनाई है। बल्कि उन्होंने एक ऐसी दवाई बनाई है जिससे कोरोना के मरीज ठीक हुए हैं।

बता दें कि बीते मंगलवार को बाबा रामदेव ने हरिद्वार में प्रेस कांफ्रेंस आयोजित कर धूम धाम के साथ कोरोना का शत प्रतिशत इलाज करने वाली दवा कोरोनिल बनाने का दावा किया था। इस मौके पर पतंजलि कंपनी के सीईओ आचार्य बाल कृष्ण भी मौजूद थे। लेकिन बाबा रामदेव की कोरोनिल अपने लॉन्च के साथ ही सवालों के कटघरे में घिरती नजर आने लगी। आयुष मंत्रालय द्वारा इसके प्रचार और प्रसार पर रोक लगा दी गई। साथ ही बाबा रामदेव से उनकी कंपनी द्वारा बनाई गयी दवा कोरोनिल से संबंधित सभी जरूरी शोध दस्तावेजों को मंत्रायल को उपलब्ध करवाने को कहा गया।
बता दे कि पतंजलि आयुर्वेद ने राजस्थान की निम्स यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर कोरोना की दवा बनाने का दावा पेश किया था। कंपनी की तरफ से इस दवा का नाम कोरोनिल और श्वासारी बटी रखा गया था। साथ ही इसके साथ एक अणु तेल को भी पेश किया गया था। दवा के लॉन्च के दौरान दावा किया गया था कि इसके क्लिनिकल ट्रायल में मरीजों की रिपोर्ट महज 7 दिन के पॉजिटिव से नेगेटिव हो गयी। दवा के बारे में यह भी क्लेम किया गया था कि इसके प्रयोग से हमें 100 फीसदी प्रभावी रिजल्ट मिले हैं।

कैसे बाबा रामदेव की कोरोनिल बनी विवादित कोरोना वायरस दवा। पढ़े खास रिपोर्ट:

पतंजलि कोरोनिल: कभी हाँ, कभी ना! आयुष मंत्रायल के कड़े रुख के बाद सामने आये बालकृष्ण।

हालाँकि इसके बाद आयुष मंत्रायल ने बाबा रामदेव की इस दवा पर इस पर कड़ा रुख अपनाते हुए इसके प्रचार-प्रसार पर रोक लगा दी थी। वहीं इस पूरे मामले को लेकर उत्तराखंड के आयुष विभाग ने पतंजलि आयुर्वेद को नोटिस भेजा था। वहीं अब इस नोटिस का जवाब देते हुए पतंजलि आयुर्वेद ने कहा है कि उन्होंने कभी भी कोरोना की दवा बनाने का दावा नहीं किया था। उन्होंने कहा हमने सिर्फ यह कहा कि हमने कोरोना की एक ऐसी दवाई बनाई है, जिससे प्रयोग से संक्रमित मरीज ठीक हुए हैं।

पतंजलि ने बनाई कोरोना वायरस की दवा ‘दिव्य कोरोनिल टैबलेट’, जाने इसके बारे में सब कुछ।

बाबा रामदेव ने लॉन्च की कोरोनिल, जानें कहाँ से खरीद सकते हैं आप और क्या है इसकी कीमत ?

ऐसी महत्पूर्ण खबरों को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शेयर करना ना भूलें। 

ऐसी महत्पूर्ण खबरों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •