कोरोना वैक्सीन: ब्रिटेन ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी सोमवार को विश्व को दे सकती है तोहफा।
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

कोरोना संक्रमण के प्रसार के साथ ही विश्वभर के वैज्ञानिक इसकी वैक्सीन बनाने के कार्य में जुटे हुए हैं। अब तक कई देश कोरोना की वैक्सीन बनाने के कार्य में काफी सफलता भी हासिल कर चुके हैं। पिछले कुछ दिनों की बात करें तो कोरोना की वैक्सीन को लेकर सबसे पहले रूस फिर अमेरिका और अब इस रेस में ब्रिटेन का नाम भी शामिल हो चुका है। हाल ही में ब्रिटेन की ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) और दवा निर्मता कंपनी एस्‍ट्राजेनेका (Astra Zeneca) की ChAdOx1 nCoV-19 नामक वैक्सीन का पहला ह्यूमन ट्रायल सफल रहा है। ब्रिटेन की ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिको को उम्मीद हैं कि कोरोना की वैक्सीन सितंबर माह तक विश्व के सभी देशों को उपलब्ध हो जाएगी।

वॉलंटिअर्स पर रहे वैक्सीन के सकारात्मक प्रभाव
ब्रिटेन की ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी की देख-रेख वॉलंटिअर्स के ऊपर ChAdOx1 nCoV-19 वैक्सीन के टेस्ट किये गए। हालांकि अभी सिर्फ 15 वॉलंटिअर्स पर ही इस वैक्सीन का परीक्षण किया गया है। लेकिन आने वाले समय में 200-300 वॉलंटिअर्स पर इसका ट्रायल किया जाएगा। वैक्सीन को लेकर अब तक सामने आयी जानकरी के मुताबिक जिन लोगों पर इसका परीक्षण किया गया उनमे एंटीबॉडीज और व्‍हाइट ब्लड सेल्स (T-Cells) विकसित हुई हैं। बता दें कि टी-सेल्स मानव के शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने और इम्युन सिस्टम मजबूत करने में अहम भूमिका निभाती हैं। ऐसे में इस वैक्सीन को लेकर उम्मीदें और भी अधिक बढ़ जाती हैं।

सोमवार को विश्व के सामने होंगे ट्रायल के नतीजे
मेडिकल जर्नल ‘द लेन्सेट’ में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिटेन की ऑक्‍सफोर्ड यूनिवर्सिटी (Oxford University) और दवा निर्मता कंपनी एस्‍ट्राजेनेका (Astra Zeneca) की ChAdOx1 nCoV-19 वैक्सीन के नतीजे सोमवार (20 जुलाई) को विश्व के सामने होंगे।

अमेरिका कि मॉडर्ना कम्पनी भी रेस में शामिल
अमेरिका कि मॉडर्ना कम्पनी की वैक्सीन अपने पहले ट्रायल में सफल रही है। न्‍यू इंग्‍लैंड जर्नल ऑफ मेडिसीन में छपी एक स्टडी के मुताबिक 45 स्‍वस्‍थ लोगों पर इस वैक्‍सीन के ट्रायल के परिणाम काफी उत्साहवर्द्धक रहे हैं। कम्पनी के मुताबिक मॉडर्ना की इस वैक्‍सीन ने हर व्‍यक्ति के अंदर कोरोना से मुकाबला करने के लिए एंटीबॉडी का निर्माण किया है।

अब तक हो चुके कोरोना वायरस की दवा बनाने के दावे 

ऐसी महत्पूर्ण खबरों को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शेयर करना ना भूलें। 

ऐसी महत्पूर्ण खबरों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES