मित्रों: भारतीय एप समझ कर जिसे कर रहे थे डाऊनलोड वो निकली पाकिस्तानी एप
TRENDING
  • 9:51 PM » वजन कम करने वाले फल – Best fruits for weight loss in hindi.
  • 10:31 PM » चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on chandrashekhar azad in hindi.
  • 9:30 PM » त्वचा के लिए नीम के फायदे – Neem benefits for skin in hindi.
  • 9:55 PM » घर से कीड़े-मकोड़ों को भागने के आसान घरेलू नुस्खे.
  • 11:18 PM » पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए करें इन ड्रिंक्स का सेवन।

देश में पिछले कुछ दिनों से चाइनीज एप Tik Tok को लेकर काफी विवाद चल रहा था। कुछ लोग सोशल मीडिया पर #bantiktok ट्रेंड चला रहे थे तो कुछ लोग प्ले स्टोर पर इसे नेगेटिव फीड बेक दे रहे थे। हालाँकि बाद में गूगल प्ले स्टोर ने Tik Tok एप को मिले सभी नेगेटिव रिव्यू हटा इसकी रेटिंग फिर से बड़ा दी थी। लेकिन इस दौरान कई लोग ऐसे भी थे जिन्होंने अपने फ़ोन से Tik Tok एप को ही अनइंस्टॉल कर दिया था। इसे में इसके अधिकतर यूजर मित्रों नाम की भारतीय एप पर स्विच हुए। लेकिन अब खबर मिल रही है भारतीय एप होने का दावा करने वाली मित्रों एप वाकई में पाकिस्तानी एप है। आईये जानते हैं आखिर क्यों मित्रों एप को भारतीय नहीं बल्कि पाकिस्तानी एप बोला जा रहा है।

गौरतलब है कि tik tok एप पर विवाद होने के बाद यूजर इसे अपने फ़ोन से अनइस्टॉल करने लगे। ऐसे में यूजर्स की पहली पसंद बना मित्रों और कुछ ही दिनों के अंदर 50 लाख से अधिक लोगों द्वारा डाऊनलोड किये जाने वाला एप बन कर सामने आया। इस एप का नाम मित्रों होने की वजह से ये भी दावे हुए की यह एप मेड इन इंडिया है और इसे IIT में पड़ने वाले कुछ छात्रों के द्वारा बनाया गया है। लेकिन इस के कुछ समय के बाद न्यूज़18 में प्रकाशित रिपोर्ट में यह दावा किया गया कि मित्रों नामक यह एप भारतीय नहीं बल्कि पाकिस्तानी एप है।

रिपोर्ट के मुताबकि मित्रों एप पाकिस्तानी एप TicTic का रीपैकेज्ड वर्जन है। जिसे पाकिस्तानी सॉफ्टवेयर कंपनी Qboxus द्वारा बनाया गया था। Qboxus कम्पनी के सीईओ इरफान शेख के मुताबिक उन्होने TicTic एप के सोर्स कोड को 34 डॉलर (करीब 2,600 रुपये) रूपये में मित्रों एप के डवलपर को बेचा है। न्यूज़18 से बातचीत में इरफान शेख ने बताया, ‘हम उम्मीद करते हैं कि हमारे ग्राहक हमारे कोड का इस्तेमाल करके खुद का कुछ प्रोडक्ट बनाएं, लेकिन मित्रों के डेवलपर ने हूबहू हमारा प्रोडक्ट ले लिया। उन्होंने सिर्फ उसका लोगो (Logo) बदलकर अपने स्टोर पर अपलोड कर दिया।

मित्रों एप के बारे एक और बड़ी बात जो सामने आ रही है वो है इस एप की प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर। जब
आप गूगल प्ले स्टोर पर जाकर एप की प्राइवेसी पॉलिसी चेक करते हैं तो आपको shopkiller.in नाम से एक लिंक मिलेगा, जिस पर क्लिक करने पर एक ब्लेंक पेज ओपन हो जाता है। इसलिए इस बात का अंदाजा लगाना और भी मुश्किल हो जाता है कि मित्रों एप के डवलपर आपके डेटा का किस तरह से प्रयोग करते हैं। इसके अलावा कई यूजर्स ने मित्रों एप पर कई तरह के बग होने का भी दावा किया है।

टिड्डी दल पर ट्वीट करना जायरा को पड़ा भारी, डिलीट किये सोशल मीडिया अकाउंट।

क्या है यूट्यूब VS टिकटॉक विवाद? जिसने प्ले स्टोर में TikTok की रेटिंग 2.0 कर दी।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी खबर पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT