मधुमक्खी के काटने पर अपनाएं ये घरेलू नुस्खे।
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

मीठा और स्वादिष्ट शहद बनाने वाली मधुमक्खी यदि आपको काट लें तो आपको दर्द का ऐसा अनुभव होता है जिसे आप जीवनभर नहीं भूल पाते। मधुमक्खी के काटने पर उस जगह पर तेज दर्द के साथ सूजन आने लगती है। सामान्यतः मधुमक्खी का नेचर काटने का बिलकुल नहीं होता लेकिन यदि उन्हें खतरा महसूस होने लगे तो यह डंक मारने से पीछे नहीं हटती। जाने अनजाने में यदि मधुमक्खी आपको डंक मार दे तो उस जगह पर तेज दर्द होने लगता है और सूजन आने लगती है। कई बार तो हालत इतने गंभीर हो जाते हैं कि व्यक्ति को तेज बुखार आ जाता है। आमतौर पर ऐसा तब होता है जब मधुमक्खियां झुण्ड में आपके ऊपर हमला कर दें। ऐसी स्थिति में तुरतं नजदीकी चिकित्सालय जाकर अपना इलाज करवाएं। किन्तु यदि आपको एक दो मधुमक्खी ने डंक मारा है तो घबराएं नहीं घर पर कुछ आसान उपायों को अपनाकर तेज दर्द और सूजन की समस्या से छुटकारा पाएं। आईये जानते हैं मधुमक्खी के काटने पर क्या करना चाहिए?

मधुमक्खी के काटने पर
courtesy google

मधुमक्खी के काटने पर अपनाएं ये घरेलू नुस्खे – Madhumakhi kaat le to kya karen?

मधुमक्खी के काटने पर सबसे पहले डंक निकालें –

जब आपको मधुमक्खी काटती है तब वह अपना डंक काटी हुई जगह पर छोड़ जाती है। इसलिए किसी भी उपचार को करने से पहले सबसे जरूरी काम होता है मधुमक्खी के डंक को निकालना। मधुमक्खियों के डंक में जहर होता है जिससे शरीर में संक्रमण हो सकता है। आमतौर पर मधुमक्खी के डंक का असर कुछ घंटे तक रहता है लेकिन कई बार यह असर एक से दो दिन तक भी देखा जाता है। एक बार यदि डंक बाहर निकाल दिया जाए तो जहर का असर कम हो जाता है। डंक को निकालने के लिए ब्लंट ऑब्जेक्ट जैसे बटर नाइफ, गाड़ी की चाबी, डेबिट कार्ड या अन्य किसी कम धार वाले वस्तु से प्रभावित क्षेत्र पर रगड़ कर डंक को बाहर निकालने की कोशिश करें। बाहर निकाल लेने के बाद त्वचा को डिटॉल या एंटी-सेप्टिक साबुन से धो लीजिए।

मधुमक्खी के काटने पर बर्फ की सिकाई करें – Benefit of Ice to Get Relief from Bee Sting in Hindi)

जिस जगह पर मधुमक्खी ने डंक मारा है वहाँ पर बर्फ की शिकाई करें। इसकी ठंडक रक्त वाहिकाओं को सिकोड़ देती है जिस कारण जहर शरीर में नहीं फ़ैल पाता। बर्फ की शिकाई जलन, सूजन और दर्द की समस्या को कम करती है। इसके लिए कॉटन के कपड़े में बर्फ को लपेटकर 15 से 20 मिनट तक प्रभावित जगह पर रखें।

दीमक की समस्या से छुटकारा कैसे पाएं? Deemak Bhagane Ke Upay.

मधुमक्खी के काटने पर शहद लगाएं – Benefit of Honey to Get Relief from Bee Sting in Hindi

जी हाँ बिलकुल सही सुना आपने, शहद में ऐसे एंटी-बैक्टीरियल गुण मौजूद होते हैं जो मधुमक्खी के डंक मारने पर होने वाले दर्द और सूजन को दूर करने का काम करते हैं। इसका प्रयोग करने के लिए थोड़े से शहद को डंक मारी हुई जगह पर लगाएं और फिर इस पर पट्टी बांध लें। 30 मिनट के बाद पट्टी को हटा लें। इस उपाय को दो से तीन दिन लगातार दोहराने से जबरदस्त लाभ मिलता है।

मधुमक्खी के डंक में लगाएं दही का लेप – Benefit of Curd to Get Relief from Bee Sting in Hindi

मधुमक्खी यदि काट ले तो उस जगह पर दही लगाने से आपको सूजन और दर्द की समस्या से छुटकारा मिल सकता है। दही लगाने के साथ ही दही को खाने भी फायदेमंद साबित होता है। दही में ऐसे गुण मौजूद होते हैं जो मधुमक्खी, ततैया और बर्रे द्वारा छोड़े गए जहर को निष्क्रिय करने की क्षमता रखते हैं।

इस तरह से प्याज के छिलके के प्रयोग कर कीड़े-मकोड़े और डेंगू मच्छर को घर से भगाएं।

मधुमक्खी के डंक में लगाएं टूथपेस्ट – Benefit of Toothpaste to Get Relief from Bee Sting in Hindi

इसके लिए आप कोई भी सफेद टूथपेस्ट का प्रयोग कर सकते हैं। इसमें ऐसे केमिकल मौजूद होते हैं जो मधुमक्खी द्वारा छोड़े गए जहर के अम्लीय प्रभाव को कम करते हैं। इसका प्रयोग जलन, दर्द और सूजन की समस्या को दूर करने का काम करता है। इसका प्रयोग करने के लिए थोड़े से व्हाइट टूथपेस्ट को लोहे के बने किसी बर्तन में डालकर कुछ देर रगड़ें फिर इसे डंक लगी जगह पर लगा दें।

मधुमक्खी के काटे पर बेकिंग सोडा का प्रयोग – Benefit of Ice to Get Relief from Bee Sting in Hindi

बेकिंग सोडा का प्रयोग भी मधुमक्खी के काटने पर किया जा सकता है। इसके लिए थोड़े से बेकिंग सोडा में बहुत कम मात्रा में पानी मिलाएं और फिर एक पेस्ट तैयार करें। अब इस पेस्ट को प्रभावित जगह पर लगा लें और इस पर ढीली पट्टी बांध लें। 15 मिनट बाद पट्टी को हटा लें, इस प्रयोग को दिन में दो से तीन बार दोहराए। यह दर्द, सूजन और जलन की समस्या को दूर करने में प्रभावी रूप से काम करता है।

Lal Chiti Kat Le To Kya Karen? लाल चींटी के काटने पर अपनाएं ये घरेलू नुस्खे।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest