कुल्हड़ वाली चाय के फायदे जान, रोक नहीं पाएंगे खुद को कुल्हड़ में चाय पीने से।
TRENDING
  • 11:36 PM » Essay on My School in Hindi : स्कूल पर निबंध लिखने का तरीका।
  • 6:57 PM » टंग ट्विस्टर चैलेंज : टंग ट्विस्टर क्या होते हैं? (Best tongue twisters in Hindi).
  • 11:41 PM » Facts About Jupiter In Hindi : बृहस्पति ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य।
  • 10:19 PM » Aloe vera for dry scalp in hindi : ड्राई स्क्लेप पर एलोवेरा जेल कैसे लगाएं?
  • 10:52 PM » Facts about mercury planet in hindi : बुध ग्रह से जुड़े रोचक तथ्य।

चाय पीने का शौक भला किसे नहीं होता, यदि आप एक चाय लवर हैं तो आपने कभी न कभी कुल्हड़ वाली चाय जरूर पी होगी। कुल्हड़ में मिलने वाली इस चाय का अपना एक खास स्वाद होता है। जो इसे रोजाना पी जाने वाली सामान्य चाय से अलग बनता है। इस चाय को यह विशेष स्वाद देने का काम करता है कुल्हड़। इसके अलावा कुल्हड़ वाली चाय (kulhad ki chai) से आपको मिट्टी की एक भीनी-भीनी खुसबू भी मिलती है। स्वाद के साथ सुगंध का यह सयोंजन इस कुल्हड़ वाली चाय को सामान्य चाय से बिलकुल अलग बनाने का कार्य करता है। मौजूदा समय में देश के कई राज्यों में तंदूरी कुल्हड़ चाय भी काफी लोकप्रिय हो रही है। कुल्हड़ वाली चाय (kulhad ki chai) के बारे में बात करें तो यह स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद मानी जाती है। इसलिए आप लोगों को भी कोशिश करनी चाहिए कि घर से बाहर जब कभी चाय पीने का प्लान बने तो ऐसी जगह पर चाय पिए जहां कुल्हड़ में चाय देने की सुविधा उपलब्ध हो। आईये जानते हैं आखिर क्यों कांच के गिलास और डिस्पोजेबल गिलास की जगह कुल्हड़ में चाय पीनी चाहिए।

कुल्हड़ वाली चाय

कुल्हड़ वाली चाय (kulhad ki chai) पीने के फायदे –

कांच और स्टील के गिलास के मुकाबले कुल्हड़ में चाय पीना ज्यादा सेफ और सुरक्षित तरीका होता है। यदि कांच और स्टील के गिलास सही तरीके से नहीं माजे गए तो इनसे कई बैक्टीरिया आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं। अब यदि आप सोचते हैं कि हम पाल्स्टिक, फोम या गत्ते से बने डिस्पोजेबल गिलास में चाय पी कर सुरक्षित हैं तो आपका यह सोचना भी गलत है। ऐसा इसलिए क्योंकि इस तरह के गिलास में गर्म चाय डालने पर इनके कुछ तत्व चाय के साथ मिल जाते है जो आपके स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचा सकते हैं। वहीँ कुल्हड़ वाली चाय का सेवन कर आप इस तरह की सभी समस्याओं से बच सकते हैं।
मिट्टी के सभी बर्तनों का क्षारीय स्वभाव शरीर के एसिडिक स्वभाव में कमी लाने का कार्य करता है। इसके अलावा कुल्हड़ की चाय आपको मिट्टी की भीनी-भीनी खुसबू भी पहुंचाने का कार्य करती है। जिसके परिणाम स्वरूप इसका स्वाद कई गुना अधिक बढ़ जाता है। कुल्हड़ में मौजूद तत्व शरीर के लिए लाभदायक होते हैं। मानसून के मौसम में कुल्हड़ की चाय (kulhad ki chai) का सेवन बिमारियों को दूर रखने का कार्य करता है।

सावधान! चाय पीने से पहले चाय पीने के इन नुकसान के बारे में भी अवश्य जानें।

कांच और स्टील के गिलास –

आपने भी इस बात पर गौर किया होगा कि कांच के गिलास की जगह चाय वाले आजकल डिस्पोजल गिलास में चाय देना पसंद करते हैं। इसके अलावा शादी, पार्टी या अन्य किसी फंक्श्सन में भी डिस्पोजल गिलास का अधिक मात्रा में उपयोग किया जाता है। ये डिस्पोजल गिलास पाल्स्टिक, फोम या गत्ते के बने होते हैं। अधिकतर डिस्पोजल गिलास में पॉली-स्टीरीन मौजूद होता है जो गर्म चाय के साथ उसमें घुल जाता है। इसका सेवन आपके स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होता है। यह आपको कई गंभीर बीमारियां देने की क्षमता रखता है। इनमे से कुछ मुख्य थकान, पेट खराब होना, हार्मोनल बदलाव और कैंसर जैसी गंभीर बीमारी हैं। वहीं इसके विपरीत कुल्हड़ वाली चाय (kulhad wali chai) आपके स्वास्थ्य के लिहाज से फायदेमंद होती है।

डिस्पोजल गिलास में चाय पीने के नुकसान –

देखा जाये तो कांच और स्टील के गिलास में चाय पीना एक सुरक्षित तरीका है। लेकिन यदि आप सड़क किनारे या अन्य किसी चाय की दुकान में चाय पी रहें हों तो आपको कांच और स्टील के गिलास में चाय पीने से बचना चाहिए। इस तरह की दुकानों में ग्राहकों की भीड़ अधिक होती है। जिसका नतीजा यह होता है की कई बार वो गिलास को सिर्फ पानी से छाल कर उसमें फिर से चाय भर कर आपको दे देते हैं। ऐसे में कई लोगों के सम्पर्क म