करवा चौथ 2019: जानिए करवा चौथ व्रत विधि, मुहूर्त क्या रहेगा शुभ और क्या अशुभ।
TRENDING
  • 10:07 PM » महात्मा गांधी पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on mahatma gandhi in hindi.
  • 8:00 PM » स्वामी विवेकानंद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on vivekananda in hindi.
  • 9:15 PM » किसान पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on farmer in hindi.
  • 11:25 PM » डेंड्रफ क्या है? जानें डैंड्रफ होने के कारण – Dandruff hone ke karan.
  • 9:30 PM » मेरे देश पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on my country in hindi.

करवा चौथ का दिन बहुत ही शुभ माना जाता है ये दिन सुहागनों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। इस दिन सुहागन औरतें अपने पति की लम्बी उम्र, अखंड सौभाग्य के लिए व्रत रखती हैं। प्रथा के अनुसार इस रात में जब चन्द्रमा निकलता है तो उसकी पूजा होती है और साथ ही इस दिन बिना खाए, पिए चन्द्रमा के निकलने तक व्रत रखती हैं। जैसा की आप सब जानते हैं कि ये कार्तिक महीने की चथुर्ति को मनाया जाता है इसलिए इसको करवा चौथ कहा जाता है। पुराने समय में सावत्री नाम की एक औरत ने अपने पति को यमराज से वापस लाने के लिए ये व्रत की शुरूवात की थी। इस व्रत को रख के वो अपने पति को यमराज से छीन लायी थी।

करवा चौथ दिन, मुहूर्त, अवधि – 17 अक्टूबर (गुरुवार) मुहूर्त –

17:50:03 से 18:58:47 तक अवधि -1 घंटा 8 मिनट तक। ये व्रत सूर्य निकलने से पहले शुरू हो जाता है और जब तक चाँद न आए तब तक रहता है। इस दिन जो भी औरत अपने पति के लिए व्रत रखती है ऐसा मानना है कि उससे पति की लम्बी उम्र होती है और उनका जीवन सुखमय रहता है।

करवा चौथ

courtesy google

करवा चौथ की विधि –

सुबह सूरज निकलने से पहले उठें सरगी के रूप में मिला भोजन करें, पानी पियें और भगवान की पूजा कर के निर्जला व्रत रखें, इस दिन का व्रत बिना अन्न जल ग्रहण किये चाँद निकलने तक करते हैं।

पूजा करने के लिए मिट्टी की वेदी पर सभी देवताओ की स्थापना कर इसमें कर्वे में रखें।

एक थाल में घी का दीपक, धूप, सिंदूर, रोली, चन्दन रखें।

पूजा चाँद निकलने से एक घंटे पहले शुरू करनी चाहिए पूजा करते समय करवाचौथ की कथा जरूर पढ़नी चाहिए।

चाँद को छन्नी से देखने के बाद अर्ध्य दें और चाँद की पूजा करें, सभी सुहागिने छन्नी से अपने पति को देख कर उनके हाथ से जल और कुछ खा कर व्रत का परायण करें।

करवा चौथ के दिन क्या करना होता है शुभ –

करवा चौथ के दिन महिलाओ को लाल या पिले रंग के कपडे पहनने चाहिए।

इस दिन अपने पति के पैर छूना और उनकी नजर उतारनी चाहिए इससे आपकी पति की सभी नकारात्मक ऊर्जा खत्म हो जाती हैं और आपका सौभाग्य बढ़ता है।

इस दिन आपको करवा चौथ की कथा पूरी पढ़नी चाहिए, इससे आपको सच्चे दिल से किये गए फल की प्राप्ति होती है।

व्रत के दिन पत्नी को सुहाग की हर चीज़ धारण करनी चाहिए जैसे चूड़ी ,बिंदी, मंगलसूत्र, पायल, बिछुवे आदि।

इस दिन बहु को अपने सास के पैर छूने चाहिए और इस दिन बहु को अपनी सास से कपडे, फल, मिठाई, मिलती है जिसको सरगी कहते हैं।

जिस समय चाँद निकलता है उस समय एक दीपक जरूर जलना चाहिए तत्पश्चात पति के हाथ से ही कुछ खाना और पीना चाहिये साथ ही अपने पति को भी खिलाना चाहिये।

इस दिन भोजन शुद्भ बनाना चाहिये क्योंकि ये भोजन मैय्या को भी चढ़ता है।

कुंवारी लड़कियां ऐसे करें करवा चौथ का व्रत..भूल कर भी ना करें ये गलतियां।

क्या होता है अशुभ –

इस दिन आपको अपने पति से लड़ाई नहीं करनी चाहिए उनकी हर आज्ञा का पूर्ण तरह से पालन करना चाहिए इससे आपका सौभाग्य बढ़ता है।

करवाचौथ के दिन किसी भी तरह का सुहाग का सामान को बाहर नहीं फेकना चाहिए उसे संभाल कर रखना चाहिए।

इसदिन जो व्रत रख रही हैं उन्हें दिन में सोना नहीं चाहिए, बड़े बूढ़ो का तिरिस्कार नहीं करना चाहिए, उनसे आशीर्वाद लेना चाहिए।

करवाचौथ के दिन काला और सफ़ेद रंग के कपडे पहनना बहुत अशुभ माना जाता है इसलिए इस दिन इन कपड़ो से दूर रहें।

अगर आप करवा चौथ का व्रत ले रही हैं तो इस दिन आप किसी की चुगली न करें और न ही व्रत के दौरान कैंची का इस्तेमाल करें।

इस दिन सुहाग का सामान न किसी से लें और न ही किसी को सुहाग का सामान दें।

दोस्तों अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृप्या अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी रोचक जानकारिओं के लिए आज ही हमसे जुड़े :-                                                          Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT