क्यों मनाई जाती है जन्माष्टमी? साथ ही जानें जन्माष्टमी 2020 शुभ मुहर्त और पूजा विधि।
TRENDING
  • 11:06 PM » तरबूज खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान नहीं खाएंगे धोखा।
  • 10:20 PM » Causes of bad breath in hindi : मुँह से बदबू आने के कारण।
  • 10:15 PM » Balon ke liye til ke tel ke fayde : बालों पर तिल के तेल का इस्तेमाल करने से मिलने वाले फायदे।
  • 10:43 PM » Hibiscus for hair in hindi : बालों के लिए गुड़हल के फूल के फायदे।
  • 11:14 PM » Jeera pani pine ke fayde : जीरे के पानी के फायदे।

हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी जन्माष्टमी का पावन पर्व अब बेहद करीब आ चूका है। इसे हिन्दू रीती रिवाजों के अनुसार भगवान विष्णु के आठवें अवतार के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। आमतौर पर जन्माष्टमी को श्रावण या भाद्रपद के महीने में कृष्ण पक्ष के आठवें दिन (अष्टमी) को मनाया जाता है। हर बार की तरह इस साल भी जन्माष्टमी 2020 का समारोह 11 अगस्त और 12 अगस्त को मनाया जाएगा। इसे श्री जयन्ती, अष्टमी रोहिणी, कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी और श्रीकृष्ण जयन्ती के नाम से भी जाना जाता है। जन्माष्टमी 2020 के इस शुभ मुहर्त पर, लोग भागवत पुराण के अनुसार भगवान कृष्ण के जीवन पर आधारित नृत्य-नाटिकाएं बनाते हैं, जो मध्यरात्रि में भक्ति गीत गाते हैं और दिन भर उपवास करते हैं। वैसे तो जन्माष्टमी का पर्व देश के कई हिस्सों में मनाया जाता है लेकिन मथुरा और वृंदावन जन्माष्टमी का उत्सव इन सब में उल्लेखनीय है। आइए जानते हैं जन्माष्टमी 2020 के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि के बारे में।

जन्माष्टमी 2020 शुभ मुहूर्त –

जन्माष्टमी तिथि : 11 अगस्‍त और 12 अगस्‍त

अष्‍टमी तिथि प्रारंभ: 11 अगस्‍त 2020 को सुबह 09 बजकर 06 मिनट से
अष्‍टमी तिथि समाप्‍त: 12 अगस्‍त 2020 को सुबह 05 बजकर 22 मिनट तक
दही हांडी: 12 अगस्त
रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ: 13 अगस्‍त 2020 की सुबह 03 बजकर 27 मिनट से
रोहिणी नक्षत्र समाप्‍त: 14 अगस्‍त 2020 को सुबह 05 बजकर 22 मिनट तक

जन्माष्टमी 2020 पूजा विधि –

  • प्रातःकाल उठ कर स्नान करें और फिर स्वच्छ व्रस्त धारण करें।
  • अब भगवान श्री कृष्ण की मूर्ति को पवित्र गंगा जल से स्नान कराएं।
  • अब मूर्ति को दूध, दही से बने पंचामृत से स्नान कराएं।
  • अब एक बार फिर मूर्ति को शुद्ध जल से स्नान कराएं।
  • अब भगवान को मिष्ठान और उनकी प्रिय चीजों से भोग लगाएं।
  • अब गंगाजल अर्पित करें।
  • परिवार के सभी सदस्य भगवान की आरती गाएं।
  • अब प्रसाद को परिवार के सभी सदस्यों में बाटें।

क्यों मनाई जाती है जन्माष्टमी –

किंवदंतियों के अनुसार, भगवान कृष्ण का जन्म मथुरा के राजा कंस को मारने के लिए हुआ था। कृष्ण का जन्म कंस की बहन देवकी से हुआ था, जिन्होंने कंस के मित्र वासुदेव से विवाह किया था। उनकी शादी के बाद, एक आकाशीय भविष्यवाणी हुई थी कि उनका आठवां पुत्र कंस का वध करेगा।
भविष्यवाणी के बाद, कंस ने अपनी बहन देवकी और वासुदेव को कैद कर लिया और उनके सभी बेटों को मार डाला। जब दंपति के आठवें बच्चे, कृष्णा का जन्म हुआ, वासुदेव ने बच्चे को बचाने में कामयाबी हासिल की और उसे वृंदावन में अपने पालक माता-पिता नंदा और यशोदा को सौंप दिया।
वासुदेव एक बच्ची के साथ मथुरा लौटे और कंस को उन्हें सौंप दिया, हालांकि, जब राजा ने इस बच्चे को भी मारने का प्रयास किया, तो वह देवी दुर्गा में तब्दील हो गयी। इसके कई वर्षों बाद, भगवान कृष्ण ने मथुरा का दौरा किया और कंस को मार डाला, इस प्रकार उनके आतंक के शासन को समाप्त कर दिया।

जन्माष्टमी में घर पर इन आसान तरीकों से तैयार करें लड्डू गोपाल के भोग की सामग्री।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT

%d bloggers like this: