अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (इंटरनेसनल योगा डे) का इतिहास और इससे जुडी जानकारियाँ।
TRENDING
  • 10:20 PM » Causes of bad breath in hindi : मुँह से बदबू आने के कारण।
  • 10:15 PM » Balon ke liye til ke tel ke fayde : बालों पर तिल के तेल का इस्तेमाल करने से मिलने वाले फायदे।
  • 10:43 PM » Hibiscus for hair in hindi : बालों के लिए गुड़हल के फूल के फायदे।
  • 11:14 PM » Jeera pani pine ke fayde : जीरे के पानी के फायदे।
  • 9:15 PM » Banana Peel Benefits For Skin and Hair in Hindi : त्वचा और बालों के लिए केले के छिलके के फायदे।

21 जून 2020 को सम्पूर्ण विश्व में हर साल की तरह इंटरनेशनल योगा डे (अंतरराष्ट्रीय योग दिवस) मनाया जायेगा। योग व्यायाम की बात करें तो भारत में इसका इतिहास आदि काल से चला आ रहा है। एक अच्छे स्वास्थ्य के लिए योग वयायाम का हमारे जीवन पर गहरा असर पड़ता है। यहाँ तक कि हमारे देश में प्राचीन काल से ही बड़े-बड़े ऋषि मुनि योग विद्या का प्रयोग करके खुद को स्वस्थ्य रखा करते थे। योग न सिर्फ आपके शरीर को चुस्त दुरुस्त बनाने का कार्य करता है बल्कि इसके नियमित अभ्यास द्वारा आपको अनेक बिमारियों से छुटकारा मिलता है। ऐसे में योगा की अहमियत सिर्फ एक वयायाम तक सिमित न रह कर, उससे कहीं अधिक बढ़ जाती है। वर्ष 2014 में पहली बार भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations Organisation) ने 21 जून को इंटरनेशनल योगा डे (अंतरराष्ट्रीय योग दिवस) के रूप में मनाने का निर्णय लिया था। आईये जानते हैं इंटरनेशनल योगा डे (अंतरराष्ट्रीय योग दिवस) से जुडी कुछ अहम बताओं के बारे में।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 – International Yoga Day 2020

योग दिवस का इतिहास – History of yoga day

जैसा कि हमने आपको बताया की योग का इतिहास भारत में वर्षों पुराना है। प्राचीन काल से ही हमारे देश के ऋषि मुनि खुद को स्वस्थ्य और निरोग रखने के लिए योगा का अभ्यास करते रहें है। योगा के असरदार परिणामों का लोहा अब विश्व के सभी देशों ने माना है। विश्व में पहली बार वर्ष 2014 में देश के प्रधानमत्रीं नरेंद्र मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations Organisation) के सामने इंटरनेशनल योगा डे (अंतरराष्ट्रीय योग दिवस) मानाने का प्रस्ताव रखा था। जिसके बाद 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस या विश्व योग दिवस के रूप में मनाए जाने को मान्यता दी थी।

विश्व योग दिवस के लिए क्यों चुना गया 21 जून को – Why is 21st June chosen as yoga day

21 जून को विश्व योग दिवस के लिए चुने जाने का कारण यह था कि भारतीय संस्कृति के अनुसार, ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है। 21 उत्तरी गोलार्ध में साल का सबसे लंबा दिन होता है। इस दिन सूर्य जल्दी उदय होता है और देर से ढलता है।

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 थीम – (International Yoga Day 2020 Theme)

सयुक्त राष्ट्र संघ हर साल इंटरनेसनल योगा डे (अंतरराष्ट्रीय योग दिवस) को किसी न किसी थीम के अंतर्गत मानते हुए आ रहा है। इस बार कोरोना वायरस महामारी के चलते लोगों को ऐसी थीम दी गई है, जो सेहत और स्वस्थ्य को बढ़ावा देगी। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 थीम है घर में रहते हुए अपने परिवार के साथ योग करना।

योग दिवस का महत्त्व – Importance of Yoga Day

प्राचीन काल से ही योग को भारतीय संस्कृति में विशेष दर्जा प्राप्त है। स्वस्थ्य जीवन यापन करने, मन और शरीर पर निंत्रण करने के साथ बिमारियों से शरीर को दूर रखने की अद्भुत कला का दर्जा भी योग को प्राप्त है। योग करने से शरीर ऊर्जावान होता है और योग से आपके अंदर सकारात्मकता का संचार होता है।

12 मई यानी कि अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस, जानिए इससे जुड़ी कुछ रोचक बातें।

World No Tobacco Day 2020: कब और क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड नो टोबैको डे?

इंटरनेशनल टी डे! कब मनाया जाता है चाय दिवस, जाने चाय का इतिहास और प्रकार ?

World Food Safety Day 2020: जानिए क्या है इसका इतिहास और कब मनाया जाता है विश्व खाद्य सुरक्षा दिवस।

विश्व साईकिल दिवस 2020 : जानिए साईकिल दिवस का इतिहास और साईक्लिंग के स्वास्थ्य लाभ।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT