पढ़े साइकिल से 1200 किलोमीटर का सफर तय करने वाली ज्योति कुमारी की कहानी।
TRENDING
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।
  • 11:53 PM » 10 lines on diwali in hindi : दिवाली पर 10 लाइन निबंध।

कोरोना वॉरियर्स की कहानियां पिछले कई दिनों से आप लगातार सुनते आ रहे होंगे। लेकिन आज हम बात करेंगे एक ऐसी लड़की की कहानी के बारे में जिसने साबित कर दिया कि यदि आपके हौसले बुलंद और इरादे मजबूत हों तो पूरा विश्न आपका लोहा मानता है। ये कहानी है बिहार की एक लड़की ज्योति कुमारी की जिसने दिल्ली से बिहार तक 1200 किलोमीटर का सफर साइकिल से तय किया। इस यात्रा की सबसे बड़ी खासियत यह थी कि इस पूरी यात्रा के दौरान ज्योति कुमारी ने अपने बीमार पिता को साइकिल पर बैठा कर 1200 किलोमीटर का लम्बा सफर तय किया। इसके बाद ज्योति कुमारी की तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल होने लगी और देखते ही देखते वो न सिर्फ हमारे देश में बल्कि विदेश में भी प्रसिद्ध हो गयी।

गौतरलब है कि पिछले लम्बे समय से हमारे देश में लॉकडाउन चल रहा है। जिस कारण प्रवासी मजदूरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। हालाँकि सरकार अपने स्तर पर प्रवासी मजदूरों को हर संभव प्रयास पहुंचने का कार्य कर रही है, लेकिन अभी भी कई लोगों तक सरकार की यह मदद नहीं पहुंच पा रही है। जिस कारण ये लोग पैदल ही अपने गावं की तरफ को निकल पड़े हैं। आये दिन सोशल मिडिया पर इन प्रवासी मजदूरों की तस्वीरें वायरल होते रहती हैं।

गौरतलब है कि कुछ दिन पहले सोशल मीडिया पर ऐसी ही एक तस्वीर वायरल हुए थी जिसमे एक लड़की अपने घायल पिता को साईकिल के पीछे बैठा कर अपने गावं ले जा रही थी। तस्वीरों में दिख रही इस लड़की का नाम ज्योति कुमारी है जो कि बिहार के दरभंगा जिले के सिरहुल्ली गांव से है। लॉकडाउन के कारण ज्योति मार्च माह से अपने बीमार पिता के साथ गुड़गांव में फस गयीं थी। लम्बे लॉकडाउन के दौरान एक समय ऐसा भी आया जब पिता और पुत्री के पास दो जून की रोटी खाने के पैसे भी नहीं बचे। इसी दौरान प्रधानमंत्री राहत कोष से उनके खाते में कुछ रूपये आए। ज्येाति ने इन रुपयों में कुछ और रूपये मिलाकर एक पुरानी साइकिल खरीदी और अपने पिता को साईकिल में बैठा कर निकल पड़ी 1200 किलोमीटर के थका देने वाले सफर पर।

इसके बाद ज्योति की तस्वीरें सोशल मिडीया पर वायरल होने लगी। लोगों ने पिता पुत्री की इन तस्वीरों को बहुत पसंद किया और ज्योति की हिम्मत की सराहना करते हुए उसके उज्ज्वल भविष्य की कामना करी। अपने पिता को साईकिल में बैठा कर यात्रा करने की यह तस्वीरें सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेश में भी काफी चर्चा में रही। यहाँ तक की इन तस्वीरों को देखने के बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रंप भी खुद को रोक नहीं पायी और ज्योति की तस्वीरें ट्वीट करते हुए उसकी प्रसंशा करी।
ज्योति की कहानी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रंप ने ट्विटर पर शेयर करते हुए कहा कि “15 साल की ज्योति कुमारी, अपने घायल पिता को साइकिल में बैठाकर 7 दिनों कि लम्बी यात्रा पर +1,200 किलोमीटर की दूरी तय कर अपने गाँव ले गई। ज्योति का पिता को लेकर साइकिल पर इतना लंबा सफर तय करना भारतीयों की सहनशीलता और असीम को दर्शाता है। ”


बता दें कि ज्योति आठवीं कक्षा की छात्रा हैं और उनकी उम्र महज 15 साल है। ज्योति के इस कारनामे के बाद कई संस्थाओं ने उनकी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है इसके अलावा उनकी आगे की पढ़ाई पूरी करवाने का भी आश्वासन दिया है। साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया ने ज्योति को अगले महीने ट्रायल के लिए भी बुलाया है।

प्लेन क्रेश होने से पहले पायलट ने क्यों बोला था मेडे मेडे मेडे! जानिए क्या है इसका मतलब।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  • 1
  •  
  •  
  •