अलीबाबा को भारतीय कोर्ट ने भेजा समन, पूर्व कर्मचारी ने लगाए गंभीर आरोप।
TRENDING
  • 9:51 PM » वजन कम करने वाले फल – Best fruits for weight loss in hindi.
  • 10:31 PM » चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on chandrashekhar azad in hindi.
  • 9:30 PM » त्वचा के लिए नीम के फायदे – Neem benefits for skin in hindi.
  • 9:55 PM » घर से कीड़े-मकोड़ों को भागने के आसान घरेलू नुस्खे.
  • 11:18 PM » पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए करें इन ड्रिंक्स का सेवन।

हाल ही में चीनी दिग्गज कम्पनी अलीबाबा ने भारत में अपने गुरुग्राम और मुंबई स्थित ऑफिस को बंद कर देश से अपना कारोबार समेट लिया था। लेकिन लगता है अलीबाबा की मुसीबतें अभी खत्म नहीं हुई। हाल ही में गुरुग्राम के एक कोर्ट ने चीनी दिग्गज कंपनी अलीबाबा के प्रमुख जैक मा को समन भेजा है। कोर्ट ने यह समन अलीबाबा ग्रुप के पूर्व कर्मचारी की शिकायत पर भेजा है। कर्मचारी के मुताबिक उनकी कंपनी ने उन्हें गलत तरीके से नौकरी से निकाल था। अलीबाबा में काम करने वाले इस पूर्व कर्मचारी के अनुसार उसने कंपनी के ऐप्स पर सेंसरशिप और फेक न्यूज को लेकर आपत्ति जताई थी। जिसके परिणाम स्वरूप उसे कम्पनी ने गलत तरीके से निकाल दिया था।

सरकार ने लगाया था 59 चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंधित
बता दें कि देश में कुछ हफ्तों पहले ही सुरक्षा कारणों के चलते भारत सरकार ने 59 चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंधित लगाने का निर्णय लिया था। सरकार द्वारा जिन 59 चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंधित लगाया गया था, उनमें अलीबाबा ग्रुप कम्पनी के यूसी न्यूज और यूसी ब्राउजर भी शामिल थे।
गौरतलब है कि गलवान घाटी में हुई हिंसा के बाद से ही भारत और चीन के आपसी रिश्तों में गहरी खाई पड़ गयी। भारत सरकार ने एक के बाद एक कई कदम उठाते हुई चीन के कई प्रोजक्ट्स को भारत में तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया। वहीं राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरे का हवाला देते हुए सरकार ने 59 चाइनीज ऐप्स पर प्रतिबंधित लगाने का निर्णय लिया था।

क्या है पूरा मामला
20 जुलाई की कोर्ट फाइलिंग के मुताबिक, यूसी वेब के एक पूर्व कर्मचारी पुष्पेंद्र सिंह परमार ने अलीबाबा कम्पनी पर आरोप लगाया कि कंपनी ने चीन के खिलाफ दिखाई गई सामग्री को सेंसर किया और उसके ऐप्स यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज ने झूठी खबरें दिखाईं। जिससे सामाजिक और राजनीतिक अस्थिरता का माहौल पैदा हो। परमार ने 2017 तक गुरुग्राम में यूसी वेब कार्यालय में एक सहयोगी निदेशक के रूप में काम किया था। अब वे कम्पनी से हर्जाना में $ 268,000 मांग रहे हैं।

रॉयटर्स ने कोर्ट के डॉक्युमेंट् के हवाले से बताया कि गुरुग्राम के एक जिला कोर्ट की सिविल जज सोनिया शेओकांड ने अलीबाबा, जैक मा और करीब दर्जन भर लोगों के खिलाफ समन जारी किया है। जिसमें कहा या है कि वह 29 जुलाई तक खुद कोर्ट में आएं या अपने वकील को कोर्ट में भेजें। जज ने कंपनी और उसके अधिकारियों से 30 दिनों के अंदर लिखित जवाब भी मांगा है।

अलीबाबा ग्रुप ने समेटा कारोबार बंद किये भारत के यूसी ब्राउजर और यूसी न्यूज ऑफिस।

72 वर्षीय बुजुर्ग को मोबाइल में गेम खेलने ऐसा लगा चस्का, साइकिल में लगवा डाले 64 स्मार्टफोन।

ऐसी रोचक खबरों को अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों के साथ शेयर करना ना भूलें। 

ऐसी रोचक खबरों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT