पानी की गुणवत्ता जाँचे इन बेहद आसान 4 तरीकों से , आज ही आजमाएं।
TRENDING
  • 11:27 PM » Thyroid me kya nahi khana chahiye : जानिए थायराइड की बीमारी में क्या नहीं खाना चाहिए।
  • 11:06 PM » Sanso ki badboo ka ilaj : सांसों की बदबू दूर करने के घरेलू उपाय।
  • 11:26 PM » Causes of dark lips in hindi : होंठों का रंग काला पड़ने के कारण।
  • 10:20 PM » Benefits of mint for skin in hindi : त्वचा के लिए पुदीना के फायदे।
  • 11:06 PM » तरबूज खरीदते समय रखें इन बातों का ध्यान नहीं खाएंगे धोखा।

आज के समय में पानी पीने से पहले उसकी गुणवत्ता की जांच करना जरूरी होता है। पानी की गुणवत्ता की जांच यह सुनिश्चित करती है कि यह पानी पीने योग्य है या नहीं। मौजूदा समय की बात करें तो आपको बाजार में कई ब्रांड के ऐसे वॉटर प्यूरीफायर्स बड़ी आसानी से मिल जाएँगे जो पानी को शत प्रतिशत साफ करने के साथ उसमे मौजूद टॉक्सिक पदार्थों को नष्‍ट करने का दावा करते हैं। मौजूदा समय की बात करें तो शहरों का पानी इतना दूषित हो चुका है कि मजबूरन उसे पीने लायक साफ बनाने के लिए आपको वॉटर प्यूरीफायर लगवाना पड़ता है। इसे लगाने के बाद कहीं न कहीं यह संतुष्टि जरूर होती है कि आपके पानी की गुणवत्ता अब पहले के मुकाबले सही हो चुकी है। लेकिन कई बार आपकी यह संतुष्टि गलत भी साबित हो सकती है। इसलिए घर पर वॉटर प्यूरीफायर लगवाने के बावजूद खुद से पानी की गुणवत्ता की जांच जरूर करें। चलिए आपको बताते हैं पानी की गुणवत्ता की जांच करने के कुछ आसान टिप्स।

पानी की गुणवत्ता

पानी की गुणवत्ता जांचने के आसान टिप्स : Easy way to check water quality in hindi

पानी का रंग –

किसी भी पानी की गुणवत्ता जांचनी है तो उसका रंग देखिए। इसके लिए पानी को कांच के जार या गिलास में भरें और देखें की इसका रंग कैसा है। यदि पानी का रंग मटमैला या पीले में से एक तो समझ लीजिए इसकी गुणवत्ता सही नहीं है। यदि अपनी में आपको रेता बजरी आदि के कण नजर आएं तो इसका मतलब भी यही हुआ कि पानी की गुणवत्ता सही नहीं है। कई बार आपने नोटिस किया होगा कि हमारे घर पर मौजूद वॉटर प्यूरीफायर से भी खराब पानी आने लगता है। इसका मतलब है समय आ गया है कि आप अपने वॉटर प्यूरीफायर कि सर्विस करवाएं।

पानी की ट्रांसपेरेंसी –

पानी के रंग के साथ पानी की गुणवत्ता जांचने के लिए यह भी देखें कि पानी कितना ट्रांसपेरेंट है। इसके लिए पानी को एक कांच के गिलास में भरें अब उस गिलास के आर-पार देखने कि कोशिश करें। यदि पानी साफ होगा होगा तो आप बड़ी आसानी से पानी भरे गिलास के आर-पार देख पाएंगे। इसके विपरीत पानी में यदि किसी तरह के कण या कुछ और मौजूद होगा तो आपको गिलास के आर-पार सब धुंधला नजर आएगा। ऐसे पानी को पीने से पहले फिलटर जरूर करें।

नमक पानी से नहाने के ये स्वास्थ्य लाभ जानकर हैरान रह जायेंगे आप।

पानी की स्मैल –

यदि आपके पीने के पानी से किसी भी प्रकार की कोई स्मैल आ रही हो तो समझ जाइए इसकी गुणवत्ता सही नहीं है। इसे पीना आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक हो सकता है। इसलिए पानी पीने से पहले उसकी जांच जरूर करें। कई बार ऐसा भी होता है कि जिस गिलास में आप पानी पी रहे हों उसमे से ही किसी प्रकार की स्मैल आ रही हो और वह आपके पानी का सारा टेस्ट खराब कर देती है।

पानी का स्वाद –

पानी की गुणवत्ता की जांच पानी के स्वाद के आधार पर भी कर सकते हैं। साफ और स्वच्छ पानी में किसी प्रकार का कोई टेस्ट नहीं होता। यदि पानी में किसी प्रकार का टेस्ट लगे तो उसे नहीं पीना चाहिए। पानी को स्टोर करने वाला बर्तन हमेशा साफ रखें। इसका फायदा यह होगा कि आपके पानी कि टेस्ट और स्मैल चेंज नहीं होगी। इसके अलावा पानी का स्वाद हर जगह पर बदल सकता है। समुद्री पानी खारा तो पहाड़ों के स्रोत से निकलने वाला पानी मिठास भरा होता है।

डाय‍टीशियन रूजुता दिवेकर ने बताए अचार से जुड़े मिथक, इन 4 प्वाइंट में समझे।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  • 2
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT