बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग के लिए जरूर अपनाएं ये टिप्स।
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

बरसात के मौसम की शुरुआत के साथ ही सबसे बड़ी समस्या बनती है ड्राविंग। फिर चाहे आप कार से ड्राइविंग करते हो या बाइक से सावधानी आपको दोनों में बरतनी होती है। बरसात के मौसम में रोड में जगह-जगह गढ्ढे पड़ जाना और उन गढ्ढों में पानी भर जाना सबसे बड़ी समस्या बन जाता है। यदि आप बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग कर रहें हो तो आपको सड़क हादसों से बचने के लिए कई बातों का ध्यान रखना जरूरी है। कई लोगों की आदत होती है कि वह बिना कुछ परवाह किये बरसात के मौसम में भी तेज रफ्तार में बाइक राइडिंग करते हैं। जिसे बिलकुल सुरक्षित तरीका नहीं माना जायेगा। यदि आपको भी बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग अत्यधिक करनी पड़ती हो तो जानिए बरसात के मौसम में सेफ बाइक राइडिंग के टिप्स।

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग
courtesy google

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग टिप्स – Monsoon tips for bike and safe riding

चेक अप –

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग करने से पहले बाइक का चेकअप जरूर करवाएं। यदि आपने मानसून आने से पहले अपनी बाइक का प्री मानसून चेकअप नहीं करवाया है तो सेफ्टी की दृष्टि से सबसे पहले इसे करवाएं। अक्सर ऐसा होता है कि हम बिना प्री मानसून चेकअप पानी से भरी रोड पर निकल पड़ते हैं और बीच रास्ते में चलती हुई बाइक अचानक धोखा दे जाती है। ऐसे में पानी में बाइक को खींच कर पैदल ले जाना आसान काम नहीं होता। इसलिए समय रहते इस प्रकार की समस्या से बचें और बाइक का प्री मानसून चेकअप जरूर करवाएं।

स्पीड पर रखें निंयत्रण –

वैसे तो बाइक की स्पीड पर हमेशा निंयत्रण रखना चाहिए लेकिन जब बात बरसात की हो तब आपकी बाइक की तेज स्पीड जानलेवा साबित हो सकती है। बरसात के मौसम में कम स्पीड पर बाइक राइडिंग करना सबसे सेफ तरीका माना जाता है। बरसात के मौसम में सड़क के गड्ढो में पानी भर जाने के कारण आप इनकी गहराई का सही अंदाजा नहीं लगा पाते हैं। यदि स्पीड तेज रही, तो बाइक अनियत्रित होकर सड़क पर गिर सकती है जिसमें आप गंभीर रूप से घायल हो सकते हैं।

हेलमेट और राइडिंग बूट पहनें

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग के दौरान अधिकतर लोग हेलमेट पहनना पसंद नहीं करते जो कि बिलकुल गलत बात होती है। बरसात में हेलमेट पहनने के अनेक फायदे होते हैं। सबसे पहले तो यह आपको तेज बारिश से सुरक्षा प्रदान करता है और उसके बाद यदि आपकी बाइक स्लिप हो जाए तो हेलमेट के कारण ज्यादा चोट नहीं लगती। हेलमेट के अलावा बरसात में राइडिंग बूट भी अवश्य पहनें।

क्या आप जानते हैं? कार, बाइक और घरों में बंधे तिब्बती झंडे (Tibetan Prayer Flags) का महत्व।

फिंगर वाइप –

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग के दौरान हेलमेट पहनने से कई लोगों को विजिबिलटी में थोड़ी बहुत परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। ऐसी परिस्थिति में हमे बाइक को बारबार रोक कर हेलमेट के शीशे में जमा हो रहे पानी को साफ करना पड़ता है। ऐसी परेशानियों से बचने के लिए फिंगर वाइप का प्रयोग कर शीशे को साफ करें। यह आपको बाजार में आसानी से उपलब्ध हो जायेगा।

हेडलाइट को रखे ऑन

तेज बारिश में सामने से आने वाली गाड़ी को देखना बहुत मुश्किल हो जाता है। अक्सर जब कोई गाडी अचानक से हमारे बेहद समीप पहुँचती है, तब हड़बड़ाहट में कई बार बाइक के डिसबैलेंस होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए बरसात के मौसम में हेडलाइट को हमेशा चालू रखें।

डिस्क और ड्रम ब्रेक्स का करें इस्तेमाल –

बरसात के मौसम में बाइक राइडिंग के दौरान डिस्क और ड्रम दोनों ब्रेक्स का संतुलन बना कर प्रयोग करें। फ्रंट डिस्क ब्रेक का यूज आपके बाइक के टायर को फिसलने से बचाएगा। वहीं ड्रम ब्रेक का प्रयोग स्पीड कम करने और ज्यादा कंट्रोल बनाने का कार्य करता है। ध्यान रहे डिस्क ब्रेक को हलके से दबाना है यदि तेजी से दबाया गया तो बाइक पलट सकती है। बेहतर होगा बरसात में ABS वाली बाइक का प्रयोग करें।

बरसात के मौसम में कार ड्राइविंग के दौरान इन बातों का रखें विशेष ध्यान।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT