कहीं स्मार्टफोन की SAR Value तो नहीं कर रही आपका स्वास्थ्य खराब, ऐसे करें जाँच।
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

आज के आधुनिक युग में व्यक्ति के जीवन में स्मार्टफोन का बहुत महत्व होता है। बिना स्मार्टफोन के आपके रोजमर्रा के आधे से ज्यादा काम पूरे नहीं हो पाते। स्मार्टफोन की इस बढ़ती जरूरत को देख, ये कहना कतई गलत नहीं रहेगा कि स्मार्टफोन अब मात्र एक फोन नहीं बल्कि हमारे डेली लाइफस्टायल का जरुरी हिस्सा बन गया है। यदि आपका स्मॉर्टफोन खराब हो जाता है तो आप तुरंत बिना इंतजार किये नया फोन खरीदने का प्लान बना डालते हैं। नया फोन खरीदते समय अधिकतर लोग इसके लुक, हार्डवेयर, प्रोसेसर, बैटरी और कैमरा पर तो बारीकी से ध्यान देते हैं। लेकिन इन सब के बीच हम कुछ ऐसी चीजों पर ध्यान नहीं देते जिनपर सबसे अधिक ध्यान देना चाहिए था। अब आप सोच रहे होंगे नया स्मार्टफोन लेते समय ऐसा क्या है जिस पर हम ध्यान नहीं देते। आईये हम आपकी मदद करते हैं, ये है आपके स्मार्टफोन की स्टैंडर्ड SAR Value (सार वैल्यू)। अगर आपको इसके बारे में नहीं पता तो हम आपको बता दें कि अगर आपके स्मार्टफोन की स्टैंडर्ड SAR Value तय किये गए मानकों से अधिक है, तो यह आपके स्वास्थ्य के लिए बड़ी खतरे कि घंटी बन सकता हैं। इसलिए कभी नया फोन लेने का मन बनाए तो पहले उसकी SAR Value (सार वैल्यू) की जाँच पड़ताल कर लें।

क्या होती है स्मार्टफोन की SAR Value – What is the SAR value of a smartphone

स्मार्टफोन की SAR Value यानि की Specific Absorption Rate स्मार्टफोन से ट्रांसमिट होने वाली वह रेडियो फ्रीक्वेंसी (Radio Frequency) होती है, जो रेडिएशन पैदा करती हैं। आसान शब्दों में कहा जाये तो किसी भी स्मार्टफोन की SAR Value (सार वैल्यू) वह पैमाना होती है, जो आपके डिवाइस की रेडियो फ्रीक्वेंसी को मापने का कार्य करती है। हमारे देश भारत की बात करें तो यहाँ पर डिपार्टमेंट ऑफ टेलिकम्युनिकेशन (DoT) ने इसकी वैल्यू 1.6 W/Kg (वॉट प्रति किलोग्राम) तय की गई है। यहां W/Kg (वॉट प्रति किलोग्राम) से मतलब है कि 1 किलोग्राम टिशू अधिकतम 1.6 वॉट तरंगों की पावर को सोख सकता है।

सावधान मोबाइल से सिर में उग रहे सींग ! कहीं आप भी तो नहीं कर रहे ये गलती ?

क्यों मायने रखती है स्मार्टफोन की SAR Value (सार वैल्यू) – Why SAR Value of Smartphone matters

जैसा कि हमने आपको बताया कि आपके फोन की SAR Value (सार वैल्यू) रेडिएशन पैदा करती हैं। अगर यह अपनी तय वैल्यू से अधिक है तो इसका मतलब है कि आपके फोन से रेडिएशन अधिक मात्रा में होगा और यह रेडिएशन आपको अनेक स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं देने में सक्षम होता है। आसान शब्दों में कहें तो आपके फोन से निकलने वाली यह तरंगें शरीर में खून में मौजूद टिशू द्वारा सोख ली जाती है। स्मार्टफोन से निकलने वाली तरंगों के बारे में एक खास बात यह है कि इनकी वेल्यू हमेशा एक समान नहीं रहती। यदि आप मोबाइल में एक साथ कई सारे काम कर रहे हों, तो ये बढ़ जाती है तथा फोन के कम यूज़ के दौरान ये वेव्स कम हो जाती है।

सावधान! चार्जिंग स्टेशन पर फोन चार्ज करने पर आप हो सकते हैं जूस जेकिंग के शिकार।

जानिए क्या है USB CONDOM (यूएसबी कंडोम), कैसे बचाता है आपको जूस जेकिंग से?

कैसे जाँचे अपने फोन की SAR Value (सार वैल्यू) – How to check your phone’s SAR value

स्टेप 1 – अपना फोन अनलॉक करें और ‘Dialer'(डायल पैड) ओपन करें।
स्टेप 2 – अब यहां *#07# टाइप करें।
स्टेप 3 – स्मार्टफोन स्क्रीन पर आपको SAR Ratig दिखाई पड़ेगी।

इन आसान तरीको को अपनाकर चंद दिनों के अंदर छुड़ाएं लागातर स्मार्टफोन इस्तेमाल करने की बुरी लत।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  • 1
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT