असली और नकली बेसन के बीच ऐसे करें मिलावट की पहचान।
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

गर्मागर्म पकौड़ी खाने का मन हो तो घर में बेसन का होना बहुत जरूरी है। पकौड़ी के अलावा भी कई ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिन्हें बनाने में बेसन का प्रयोग किया जाता है। वैसे तो बेसन कई प्रकार के स्वास्थ्य लाभ पहुंचाता है। बर्शते यह मिलावटी न हो, मौजूदा समय में बाजार में कुछ लोग अधिक प्रॉफिट कमाने के चक्कर में मिलावटी बेसन का कारोबार करने लगे हैं। ऐसे में आपको असली और नकली बेसन के बीच अंतर् करना आना चाहिए। आपको बता दें कि नकली बेसन का सेवन आपके स्वास्थ्य को कई तरह से नुकसान पहुंचाने में सक्षम होता है। इसलिए आज ही असली और मिलावटी बेसन के बीच फर्क करना सीखें और अपने परिवार के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। यदि आपको बेसन की शुद्धता की जांच करनी नहीं आती तो घबराएं नहीं। आज हम आपके लिए लेकर आएं हैं कुछ ऐसे टिप्स जो आपको असली और नकली बेसन के बीच फर्क करना सिखाएंगे।

बेसन को मिलावटी कैसे बनाया जाता है –

नकली और असली बेसन के बीच मिलावट का पता करने से पहले आपको इस बात को भी जानना चाहिए कि आखिर बेसन में क्या मिलावट की जाती है। अधिकतर मामलों में देखा गया है कि इसमें मिलावट करने के लिए मक्के के आटे, खेसारी के आटे और कई बार गेंहू के आटे में कृतिम रंग मिलकर बेसन में मिक्स कर देते हैं। ऐसे में कई बार असली बेसन की पहचान करना मुश्किल हो जाता है।

नकली बेसन
courtesy google

असली है या नकली बेसन ऐसे करें मिलावट की पहचान –

हाइड्रोक्लोरिक एसिड से –

हाइड्रोक्लोरिक एसिड द्वारा मिलावटी बेसन की जाँच की जा सकती है बशर्ते आपके पास यह एसिड उपलब्ध होना चाहिए। यह तरीका मिलावट पकड़ने का बेहद कारगर तरीका है और बहुत जल्द जाँच के नतीजे आपको दे देता है। इसके लिए एक कटोरी में थोड़े सा बेसन डालें अब इसमें पानी डालें और बेसन को पानी में अच्छी तरह से मिला लें। अब इसमें दो चम्मच हाइड्रोक्लोरिक एसिड डालें और कुछ देर के लिए छोड़ दें। यदि इसका रंग चेंज हो जाए तो समझ जाएँ आपका बेसन नकली है।

असली और नकली शहद (Asli Shehad Ki Pehchan) की पहचान कैसे करें, आज ही अपनाएं ये टिप्स।

नींबू का प्रयोग –

बेसन की मिलावट का पता करने के लिए हाइड्रोक्लोरिक एसिड के साथ नींबू का प्रयोग किया जा सकता है। इसका प्रयोग करने के लिए सबसे पहले एक कटोरी में नींबू के रस में हाइड्रोक्लोरिक एसिड को मिलाएँ। इसके बाद इसमें थोड़ा सा बेसन डाल दें। कुछ देर के लिए इसे छोड़ दें, यदि इसका रंग बदल कर लाल, भूरा या कुछ और हो गया हो तो समझ जाएँ आपका बेसन नकली है।

नकली मिर्च पाउडर को कैसे पहचानें?

मिलावटी बेसन के नुकसान –

नकली बेसन का सेवन स्वास्थ्य से जुडी कई समस्याओं का कारण बन सकता है। ऐसा बेसन जिसमें खेसारी के आटे की मिलावट हो, इसका सेवन जोड़ों में दर्द की समस्या का कारण बन सकता है। साथ ही मिलावट से तैयार किये गए बेसन को खाने से पेट से जुडी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। इसके अलावा कई बार केमिकलयुक्त मिलावटी बेसन खाने से दिल के स्वास्थ्य पर बुरा असर देखा गया है।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT