कैसे चीन बना वायरस की फैक्ट्री, पहले कोरोना फिर हंता और अब ब्यूबोनिक प्लेग।
TRENDING
  • 10:24 PM » गर्मियों के सीजन में करें इन सब्जियों और फलों के जूस को अपनी डाइट में शामिल।
  • 9:56 PM » क्रिकेट पर 10 लाइन निबंध : 10 lines on cricket in hindi.
  • 4:10 PM » सेब का जूस बनाने की विधि : Apple juice recipe in hindi.
  • 10:33 PM » तरबूज का जूस बनाने की रेसिपी – Watermelon juice recipe in hindi.
  • 11:33 PM » NDMA ने बताए गर्मियों में लू से बचने के उपाय – Tips to avoid heat stroke in summer in hindi.

एक तरफ जहाँ साल 2020 की शुरुआत के साथ ही सम्पूर्ण विश्व कोरोना वायरस महामारी के प्रकोप से जूझ रहा है। वहीं आये दिन चीन में एक के बाद एक नए वायरस निकल कर सामने आ रहें हैं। चीन में पैदा हो रहे ये सभी वायरस वैश्विक महामारी बनने की क्षमता रखते हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा की चीन खतरनाक वैश्विक महामारी पैदा करने वाली वायरस की फैक्ट्री बनते जा रहा है। वायरस की फैक्ट्री चीन में सबसे पहले वर्ष 2019 के अंत में कोरोना वायरस नामक महामारी फैलना शुरू हुई। कोरोना का प्रकोप अभी चीन में थमा नहीं था कि इस बीच वर्ष 2020 के मार्च माह में हंता वायरस नामक एक नई बीमारी फैलनी शुरू हुई। कोरोना और हंता का प्रकोप जैसे ही कुछ कम होने लगा तो चीन की वायरस फैक्ट्री ने अब एक नए वायरस को जन्म दे दिया है। इस नए वायरस का नाम है ब्यूबोनिक प्लेग जिसे “ब्लैक डेथ” के रूप में भी जाना जाता है। आईये एक नजर डालते हैं साल 2020 में चीन की वायरस फैक्ट्री से अब तक कितने वायरस पैदा हुए।

कोरोनावायरस – Coronavirus

साल 2020 की शुरुआत विश्व के लिए कुछ अच्छी नहीं रही। साल के शुरुआत से ही कोरोना महामारी ने विश्व के 250 से अधिक देशों में अपना भयंकर रूप दिखाया। कोरोना महामारी की शुरुआत सबसे पहले वर्ष 2019 के अंत में चीन के वुहान शहर में हुई थी। इसके बाद वर्ष 2020 की शुरुआत में इस महामारी ने विश्व के अन्य देशों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया था। वायरस के कारण विश्व में अब तक 11 करोड़ से अधिक लोग वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। जिसमे से 5 लाख से अधिक लोगो की अब तक मौत हो चुकी है। विश्व में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए वैक्सीन निर्माण का कार्य प्रगति पर है। उम्मीद है कि बहुत जल्द इसकी वैक्सीन विश्व के सामने होगी। कोरोना का जन्म दाता चीन ने अभी तक इस वायरस की उत्पत्ति कब और कैसे हुए इस बारे में कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया है।

हंता वायरस – Hantavirus

सम्पूर्ण विश्व कोरोना महामारी के बुरे दौर से गुजर रहा था कि इस बीच, वायरस की फैक्ट्री चीन में एक और नए वायरस को जन्म दिया, जिसे हंता वायरस का नाम दिया गया। चीन में साल 2020 के मार्च माह में इस वायरस का पता सबसे पहले तब चला जब इसकी चपेट में आकर चीन के दक्षिण पश्चिमी राज्य युन्नान में एक व्यक्ति की मौत हो गई। वहीं इसी प्रान्त में कई अन्य लोगों की हन्ता वायरस से संक्रमित होने की बात सामने आयी थी। इसके बारे में बताया गया था कि यह चूहों द्वारा फैलने वाला वायरस है। बहराल इस वायरस के बारे में अच्छी बात यह रही की चीन ने इसके ऊपर समय रहते काबू पा लिया था। जिसके चलते हंता वायरस कोरोना की तरह एक बड़ी वैश्विक महामारी बनने से बच गया।

ब्यूबोनिक प्लेग (ब्लैक डेथ) – (Black Death/Bubonic Plague)

कोरोना और हंता वायरस के बाद चीन की वायरस फक्ट्री ने अब एक बेहद खतरनाक और जानलेवा संक्रमण ब्यूबोनिक प्लेग (ब्लैक डेथ) को जन्म दिया है। हाल ही में नार्थ चीन के इनर क्षेत्र मंगोलिया के बयून नूर (Bayun Nur) शहर में ब्लैक डेथ/ब्यूबोनिक प्लेग (Black Death/Bubonic Plague) के कुछ मामले सामने आये है। चीन के सरकारी पीपल्स डेली आनलाइन (People’s Daily Online) की एक रिपोर्ट के मुताबिक आंतरिक मंगोलियाई स्वायत्त क्षेत्र, बयन्नुर शहर में ब्यूबोनिक प्लेग को लेकर रविवार को एक चेतावनी जारी की गई, जिसके एक दिन बाद अस्पताल ने संदिग्ध ब्यूबोनिक प्लेग का मामला दर्ज किया। बयन्नुर में ब्यूबोनिक प्लेग की रोकथाम और नियंत्रण के लिए लेवल थ्री की चेतावनी जारी की गई है। हालाँकि यह एक पुरानी दुर्लभ बीमारी है। वर्ष 2010 से 2015 तक, विश्व में इसके 3,248 मामले सामने आए, जिनमें 584 मौतें शामिल हैं। इसके ज्यादातर मामले लोकतांत्रिक गणराज्य कांगो, मेडागास्कर और पेरू में है। यह बीमारी चूहे, खरगोश और गिलहरियों से फैलने वाली बीमारी है। यही कारण की चीन की एनिमल फ़ूड मार्केट में इस समय लोगों को इन सब का मांस खाने और बेचने को मना किया गया है।

कोरोना वायरस की अधिक जानकारी के लिए पढ़े –

जानिए MoHFW की गाइडलाइन के अनुसार होममेड फेस मास्क को रियूज करने के तरीके।

जानिए लगातार मास्क पहनने के कारण होने वाली समस्याओं से बचाव के उपाय।

कोरोना से सुरक्षा देगा नासा का ये स्पेशल नेकलेस ‘पल्स’, जानिए इसके बारे में सब कुछ।

क्या वाकई AC चलाने से कोरोना वायरस फैलने का खतरा बना रहता है?

क्या कोरोना संक्रमण के दौर में ऑनलाइन खाना ऑडर करना सुरक्षित है या नहीं?

कोरोना: होटल में रुकना कितना सेफ, रूम बुक करने के दौरान रखें इन बातों का ध्‍यान।

कोरोना वायरस से बचाव हेतु WHO ने जारी की फूड सेफ्टी गाइडलाइन।

कोरोना वायरस संक्रमण: कार के इन हिस्सों को सेनेटाइज करना है अत्यंत जरूरी।

कोरोना वायरस प्रकोप: जूते-चप्पलों को डिसइन्फेट करने के टिप्स।

पड़ न जाए कोरोना काल में रेस्टोरेंट में खाना खाना भारी, पहचाने इन छुपे खतरों को।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT