वैक्सीनेशन प्रकिया : क्या कोविड से रिकवर होने के बाद वैक्सीन लगवानी चाहिए ?
TRENDING
  • 11:25 PM » Pet mein jalan ka upay : पेट में जलन की समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय.
  • 11:23 PM » 10 Lines on gandhi jayanti in Hindi : गाँधी जयंती पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:13 PM » प्रेगनेंसी टेस्ट के दौरान यदि पहली लाइन डार्क और दूसरी लाइन हल्की होने के कारण : Prega news me halki line ka matlab.
  • 11:54 PM » 10 lines on dussehra in hindi : दशहरे पर 10 लाइन निबंध।
  • 11:31 PM » Dry mouth home remedies in hindi : मुंह सूखने के घरेलू उपाय।

देश में तेजी से फ़ैल रहे कोरोना प्रसार को रोकने के लिए सरकार देश भर में वैक्सीनेशन प्रकिया तेज करने पर अधिक ध्यान दे रही है। इसके लिए सरकार ने अब भारत में बनी स्वदेशी वैक्सीन के साथ-साथ विदेशों में बनी वैक्सीन को भी भारत में प्रयोग करने की अनुमति दे दी है। साथ ही वैक्सीनेशन प्रकिया में तेजी लाने के लिए अब 1 मई से 18 साल और उससे अधिक उम्र वाले सभी व्यक्तियों को वैक्सीन लगवाने की मंजूरी दी गई है। कोरोना महामारी के साथ-साथ देश में चल रही वैक्सीनेशन प्रकिया को लेकर लोगों के मन में अनेक तरह के सवाल हैं। जिनका समय-समय पर सरकार और हेल्थ एक्सपर्ट द्वारा जवाब दिया जा रहा है। वैक्सीन को लेकर एक सवाल जो लगभग हर कोविड रिकवर हुआ पेशंट जानना चाहता है कि क्या उन्हें वैक्सीन लगवानी चाहिए? ऐसा देखा गया है कि एक बार व्यक्ति को कोरोना हो जाने पर शरीर खुद एंटीबॉडीज बनाने लगता है। ऐसे में लोगों के मन में यह सवाल आना बहुत जायज बात हैं। आईये जानते हैं इस बारे में एक्सपर्ट्स क्या राय देते हैं।

वैक्सीनेशन प्रकिया
courtesy google

क्या कोविड से रिकवर हुए व्यक्ति को वैक्सीन लगवानी चाहिए –

देश भर में तेजी से चल रहे वैक्सीनेशन प्रकिया के बीच कई लोग कोरोना महामारी को मात देकर स्वस्थ्य हो रहे हैं। एक्पर्ट्स के अनुसार जिन लोगों को कोरोना वायरस होता है उनके शरीर में एंटीबॉडीज का निमार्ण स्वतः होने लगता है। हालाँकि शरीर में बनने वाली ये एंटीबॉडीज स्थाई नहीं होती हैं। इनका असर शरीर में लगभग दो से तीन महीने तक चलता है। ऐसे में कोविड से रिकवरी करने वाले मरीजों को वैक्सीन लगवाने की जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। एक बार कोविड रिपोर्ट नेगेटिव आने के पश्चात कम से दो से तीन महीने तक शरीर द्वारा बनाई गयी एंटीबॉडी का प्रभाव रहता है। यह समय बीत जाने के बाद शरीर में बनी ये एंटीबॉडीज स्वतः नष्ट हो जाती है। इसके बाद व्यक्ति को भविष्य में कोरोना महामारी से खुद को सुरक्षित रखने के लिए वैक्सीन जरूर लगवानी चाहिए।

क्या है कोरोना का ट्रिपल म्यूटेशन वेरिएंट? क्या वैक्सीन रहेगी इसके आगे असरदार?

वैक्सीन लगवाने के बाद क्या परेशानी हो सकती हैं –

वैक्सीन के बारे में सरकार शुरू से कहते आयी है कि वैक्सीन पूरी तरह से सेफ है, इसे लगवाने से कोई गंभीर साइड इफेक्टस नहीं होता है। हालाँकि यह देखा गया है कि देशभर में कुछ लोगों को वैक्सीन लगवाने के बाद वीक्नस् और माइल्ड फीवर का सामना करना पड़ा जो पैरासिटामोल दवा की कुछ डोज लेने के बाद आसानी से उतर गया। इसलिए यह कहा जा सकता है कि वैक्सीन लगवाना पूरी तरह से सुरक्षित है। यदि आपको वैक्सीन लगवाने के बाद किसी तरह की स्वास्थ्य समस्या होने लगे तो अपने डॉक्टर से इस संबंध में सलाह जरूर लें।

वैक्सीन लेने के बाद कौन सी सावधानियां बरतें –

वैक्सीन लगवाने के बाद कुछ लोग घोर लापरवाही बरतने लगते हैं और निडर होकर कोरोना से बचने के लिए बनाये गए नियमों का पालन नहीं करते हैं। लेकिन आपको यहाँ इस बात को अच्छी तरह से समझना होगा कि वैक्सीन लगवाने के बाद अगर आपने सावधानियां नहीं बरती तो आप फिर से कोरोना वायरस का शिकार हो सकते हैं। मौजूदा समय में वायरस ने अपने अंदर कुछ इसे म्यूटेशन किये हैं जो फिर से व्यक्ति को संक्रमित करने की क्षमता रखते हैं। इस लिए मास्क का प्रयोग करें, हाथों को सैनिटाइज करते रहें और बेवजह घर से बाहर न निकलें।

हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करते समय रखें इन बातों का ध्यान।

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT