संक्रमण और सांस की समस्या में फायदेमंद हैं यूकेलिप्टस के पत्ते, ऐसे करें इस्तेमाल।
TRENDING
  • 9:51 PM » वजन कम करने वाले फल – Best fruits for weight loss in hindi.
  • 10:31 PM » चंद्रशेखर आजाद पर 10 लाइन निबंध – 10 lines on chandrashekhar azad in hindi.
  • 9:30 PM » त्वचा के लिए नीम के फायदे – Neem benefits for skin in hindi.
  • 9:55 PM » घर से कीड़े-मकोड़ों को भागने के आसान घरेलू नुस्खे.
  • 11:18 PM » पाचन तंत्र को दुरुस्त रखने के लिए करें इन ड्रिंक्स का सेवन।

यूकेलिप्टस का पेड़ तो आप ने कभी न कभी जरूर देखा ही होगा। यह एक एक सदाबहार पेड़ होता है। यूकेलिप्टस के कई औषधीय गुण भी होते हैं। यूकेलिप्टस के पत्तों का प्रयोग कई बिमारियों के इलाज में किया जाता है। यूकेलिप्टस के पत्ते खांसी और जुकाम के लक्षणों को कम करने का कार्य करता है। इसके अलावा मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द में भी यूकेलिप्टस एक रामबाण दवा की तरह कार्य करता है। यूकेलिप्टस के पत्ते का प्रयोग अस्थमा और सांस संबंधित समस्याओं के निवारण में भी किया जाता है। साथ ही यह श्वसन से जुडी समस्याओं को भी दूर करता है। आइए एक नजर डालते हैं यूकेलिप्टस के पत्ते से होने वाले स्वास्थ्य लाभों के ऊपर।

यूकेलिप्टस के पत्ते
courtesy google

यूकेलिप्टस के पत्ते से होने वाले स्वास्थ्य लाभ – Health benefits of eucalyptus leaves

सर्दी-जुकाम और ठंड को दूर करे यूकेलिप्टस के पत्ते –

जो लोग ब्रोन्काइटिस, सर्दी-जुकाम की समस्या से जूझ रहें हों, उनके लिए यूकेलिप्टस के पत्ते कारगर दवा की तरह कार्य करते हैं। यूकेलिप्टस के औषधीय गुण सर्दी और कफ की समस्या को दूर करते हैं। सर्दी-खांसी की समस्या में यह इतना अधिक लाभकारी होता है कि इसका प्रयोग कई खांसी के लिए बनने वाली दवाओं में किया जाता है। इसके लिए यूकेलिप्टस का तेल प्रयोग में लाया जाता है। हालाँकि शोधकर्ता के मुताबिक अभी यूकेलिप्टस से साँस की बिमारियों को पूरी तरह से दूर करने को लेकर अध्ययन किया जाना बांकी है।

सांस और संक्रमण के रोगों से रखे दूर –

यूकेलिप्टस के पत्ते से बनी चाय भी सॉंस और संक्रमण से जुडी समस्याओं को दूर करने का कार्य करती है। आमतौर पर आयुर्वेद में इस प्रकार की समस्याओं को दूर करने के लिए हर्बल चाय का प्रयोग किया जाता है। यूकेलिप्टस के पत्तों की चाय बनाने के लिए इसके कुछ पत्तों को तोड़ लें उसके बाद इन्हें पानी में कुछ देर उबालें। आपकी हर्बल चाय बनकर तैयार हो जाएगी।

सिर्फ सर्दी-खांसी और जुकाम समेत इन बिमारियों की रामबाण दवा है लौंग।

बंद नाक और जुकाम के लिए –

यदि आपके गले में कफ या भारीपन महसूस हो रहा हो तो आप इससे गरारा भी कर सकते हैं। ऐसा करने पर आपको बंद नाक, गले में भारीपन और जुकाम से राहत मिलेगी। इसका प्रयोग करने के लिए यूकेलिप्टस की पत्तियों को गुनगुने पानी में डाल कर गरारा करें।

यूकेलिप्टस के पत्ते से बना ड्राप –

इसकी पत्तियों से बनने वाले ड्राप का प्रयोग आप संक्रमण आदि की समस्या से छुटकारा पाने के लिए कर सकते हैं। इसका प्रयोग करने के लिए यूकेलिप्टस की पत्तियों को पानी के साथ कुछ देर तक उबालें। अब इस पानी के ठंडा होने तक इंतजार करें। इसके बाद इसे किसी बोतल में भर दें और आवश्यकता पड़ने पर इसका ड्रॉप ले लें।

कफ (बलगम) की समस्या को मिनटों में दूर करें ये घरेलु नुस्खे।

यूकेलिप्टस के अन्य लाभ :

हेल्दी दातों के लिए –

यूकेलिप्टस के औषधीय और एंटी बैक्टीरियल गुण इसे एक अच्छा माउथवॉश बनाने में मदद करते हैं। इसका प्रयोग दांतों को स्वस्थ रखने का कार्य करता है। इससे बनने वाला माउथवॉश दांतों के बैक्टीरिया से लड़ने में कार्य करता है। जिसका परिणाम यह होता है कि दांतों की सड़न और पीरियडोंटाइटिस समस्याओं से आपको छुटकारा मिलता है।

फंगल संक्रमण और घाव-

यूकेलिप्टस का प्रयोग त्वचा पर होने वाले कई संक्रमण के इलाज में करना बहुत फायदेमंद माना जाता है। साथ ही घाव या चोट पर इसे लगाने पर यह उसे भी ठीक करने का कार्य करता है।

दर्द में राहत –

यूकेलिप्टस एक अच्छे पेन किलर की तरह कार्य करता है। इसका प्रयोग मांसपेशियों और हड्डियों में होने वाले दर्द को असरदार रूप से कम करने का कार्य करता है।

नोट – इसमें कोई दोराय नहीं की यूकेलिप्टस के पत्ते कई प्रकार के संक्रमण को दूर करने का कार्य करते हैं। लेकिन इसका प्रयोग करने पर यदि आपको कोई लाभ नजर नहीं आए तो बेहतर होगा कि आप अपने नजदीकी डाक्टर से सम्पर्क करें।

सिर्फ इम्युनिटी बूस्ट नहीं सर्दी-खांसी को भी छूमंतर कर देगा चक्र फूल (स्टार एनीज)

अगर आपको हमारे द्वारा दी गयी जानकारी पसंद आयी तो कृपया अपने दोस्तों, परिवार के सदस्यों के साथ शेयर जरूर करें. 

ऐसी महत्पूर्ण जानकारियों के लिए आज ही हमसे जुड़े :- 

Instagram
Facebook
Twitter
Pinterest

RELATED ARTICLES
LEAVE A COMMENT