संक्रमण और सांस की समस्या में फायदेमंद हैं यूकेलिप्टस के पत्ते, ऐसे करें इस्तेमाल।
TRENDING
  • 3:21 PM » Sardiyo me skin care in hindi : सर्दियों में स्किन केयर टिप्स।
  • 6:11 PM » Curd face pack in hindi : त्वचा पर दही फेस पैक का प्रयोग करने का तरीका (Dahi face pack in hindi)
  • 5:31 PM » Liver detox foods in hindi : लिवर को डिटॉक्स करने वाले फूड्स।
  • 6:01 PM » Benefits of radish in hindi : मूली के फायदे (Muli khane ke fayde).
  • 6:18 PM » तांबे की बोतल साफ करने के आसान घरेलू नुस्खे।

यूकेलिप्टस का पेड़ तो आप ने कभी न कभी जरूर देखा ही होगा। यह एक एक सदाबहार पेड़ होता है। यूकेलिप्टस के कई औषधीय गुण भी होते हैं। यूकेलिप्टस के पत्तों का प्रयोग कई बिमारियों के इलाज में किया जाता है। यूकेलिप्टस के पत्ते खांसी और जुकाम के लक्षणों को कम करने का कार्य करता है। इसके अलावा मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द में भी यूकेलिप्टस एक रामबाण दवा की तरह कार्य करता है। यूकेलिप्टस के पत्ते का प्रयोग अस्थमा और सांस संबंधित समस्याओं के निवारण में भी किया जाता है। साथ ही यह श्वसन से जुडी समस्याओं को भी दूर करता है। आइए एक नजर डालते हैं यूकेलिप्टस के पत्ते से होने वाले स्वास्थ्य लाभों के ऊपर।

यूकेलिप्टस के पत्ते
courtesy google

यूकेलिप्टस के पत्ते से होने वाले स्वास्थ्य लाभ – Health benefits of eucalyptus leaves

सर्दी-जुकाम और ठंड को दूर करे यूकेलिप्टस के पत्ते –

जो लोग ब्रोन्काइटिस, सर्दी-जुकाम की समस्या से जूझ रहें हों, उनके लिए यूकेलिप्टस के पत्ते कारगर दवा की तरह कार्य करते हैं। यूकेलिप्टस के औषधीय गुण सर्दी और कफ की समस्या को दूर करते हैं। सर्दी-खांसी की समस्या में यह इतना अधिक लाभकारी होता है कि इसका प्रयोग कई खांसी के लिए बनने वाली दवाओं में किया जाता है। इसके लिए यूकेलिप्टस का तेल प्रयोग में लाया जाता है। हालाँकि शोधकर्ता के मुताबिक अभी यूकेलिप्टस से साँस की बिमारियों को पूरी तरह से दूर करने को लेकर अध्ययन किया जाना बांकी है।

सांस और संक्रमण के रोगों से रखे दूर –

यूकेलिप्टस के पत्ते से बनी चाय भी सॉंस और संक्रमण से जुडी समस्याओं को दूर करने का कार्य करती है। आमतौर पर आयुर्वेद में इस प्रकार की समस्याओं को दूर करने के लिए हर्बल चाय का प्रयोग किया जाता है। यूकेलिप्टस के पत्तों की चाय बनाने के लिए इसके कुछ पत्तों को तोड़ लें उसके बाद इन्हें पानी में कुछ देर उबालें। आपकी हर्बल चाय बनकर तैयार हो जाएगी।